--Advertisement--

104 साल पुराना है यहां का इतिहास, अब 'शंकर, से 'राम' तक पहुंच गई कमान

झांसी के नवनिर्वाचित मेयर रामतीर्थ सिंघल ने सहित 60 सभासदों ने ली शपथ।

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 05:19 PM IST
कमिश्नर अमित कुमार गुप्ता ने रामतीर्थ को मेयर पद की शपथ दिलाई। कमिश्नर अमित कुमार गुप्ता ने रामतीर्थ को मेयर पद की शपथ दिलाई।

झांसी. 104 साल पहले यहां का प्रतिनिधित्व नगर पालिका चेयरमैन के तौर पर शंकर सहाय ने किया था और मंगलवार को रामतीर्थ सिंघल ने शपथ ग्रहण की है। झांसी मंडल के कमिश्नर अमित कुमार गुप्ता ने उन्हें मेयर पद के लिए शपथ दिलाई। इसके बाद मेयर ने 60 सभासदों को शपथ दिलाई। ऐसा है नगर निगम का इतिहास...

- 1913 में नगर पालिका गठन के समय पहले अंग्रेज कलेक्टर पीएम बायस नगर पालिका के प्रशासक थे। उन्होंने 1916 तक कुर्सी संभाली।
- उसके बाद 1916 से 17 तक नगर पालिका के अध्यक्ष शंकर सहाय रहे।
- जब शंकर सहाय अध्यक्ष बने उस समय महज 12 वार्ड थे।
- जनता नगरपालिका अध्यक्ष को नहीं चुनती थी, बल्कि सभासद की वोटिंग से ही अध्यक्ष चुना जाता था।

2002 में बन गया था नगर निगम
- 2002 में नगर निगम का गठन हो गया और 8 मई 2003 को तत्कालीन डीएम जगन्नाथ सिंह प्रशासक बने।
- इसके बाद मो. आजम खां ने उच्च न्यायालय में याचिका दायर कर दी थी।
- उसके बाद 3 जुलाई 2003 को कोर्ट ने फिर से नगरपालिका को क्रियाशील कर दिया।
- एक बार फिर अनिल बट्टा व अन्य लोगों ने कोर्ट में याचिका दाखिल कर दी।
- इसके बाद कोर्ट ने नगर निगम के पक्ष में फैसला सुना दिया और उस समय रहे जिला मजिस्ट्रेट आरपी शुक्ला नगर निगम के प्रशासक बन गए।
- 104 साल पुराने नगर निगम के इतिहास में 2012 में पहली बार महिला मेयर किरण वर्मा चुनी गईं थी।



2002 में बन गया था नगर निगम। 2002 में बन गया था नगर निगम।
नवनिर्वाचित मेयर ने 60 सभासदों को शपथ दिलाई। नवनिर्वाचित मेयर ने 60 सभासदों को शपथ दिलाई।