--Advertisement--

मगरमच्छ के लिए हीरो बना 50 साल का ये शख्स, ऐसे बचाई जान

ललितपुर में एक 5 फीट लम्बा मगरमच्छ अचानक गांव में घुस आया।

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 01:46 PM IST
मगरमच्छ के गांव में घुसने की खबर पड़ोस गांव तक पहुंची। 50 साल का किसान भगवान सिंह मौके पर पहुंच गया। मगरमच्छ के गांव में घुसने की खबर पड़ोस गांव तक पहुंची। 50 साल का किसान भगवान सिंह मौके पर पहुंच गया।

ललितपुर(यूपी). यहां शनिवार की रात एक 5 फीट लम्बा मगरमच्छ अचानक गांव में घुस आया। लोगों के बीच अफरा-तफरी मच गई। ग्रामीण उसे मारने के एकजुट हो गए, तभी एक 50 साल का एक शख्स मौके पर पहुंचा। उसने ग्रामीणों को करीब 1 घंटे तक समझाया और मगरमच्छ कब्जे में लिया। रस्सी से बांधकर उसे सुरक्षित नदी में छोड़ दिया। शख्स ने लोगों को तो बचाया ही, लेकिन पल भर में उस जानवर के लिए भी हीरो बन गया। पड़ोस के गांव से आया शख्स-टांगकर ले गया मगरमच्छ...

- मामला थाना जाखलौन के अन्तर्गत ग्राम मादोन का है। यहां करीब शाम 7 बजे एक 5 फीट लम्बा मगरमच्छ शहजाद नदी से निकल आया।
- सूचना आस-पास के गांवों तक पहुंच गई। पड़ोसी गांव धौर्रा का रहने वाला किसान भगवान सिंह यादव(50 साल) मौके पर पहुंच गया।

- उसने देखा कि ग्रामीण मगरमच्छ को मारने की फिराक में थे। समझा-बुझाकर उसने रस्सी से मगरमच्छ को बांधा।

- किसान भगवान सिंह ने बताया, ''मगरमच्छ को देखकर ग्रामीण दहशत में थे। रस्सी से बनाए जाल में टांगकर उसे सुरक्षित बेतवा नदी में छोड़ दिया है।''

- वहीं, स्थानीय निवासी रामपाल का कहना है, ''भगवान सिंह ने बड़ी ही हिम्मत का काम किया। हम सभी लोग तो डर कर उसे मारने की तैयारी में थे, लेकिन उसने सभी को बचा लिया।
- बता दें, बुंदेलखंड की बेतवा नदी में करीब 400 से 500 की तादाद में मगरमच्छ रहते हैं। माताटीला बांध के पास बसे गांव में अक्सर मगरमच्छ घुस जाते हैं।

ग्रामीणों को करीब 1 घंटे तक समझाया और मगरमच्छ कब्जे में लिया। ग्रामीणों को करीब 1 घंटे तक समझाया और मगरमच्छ कब्जे में लिया।
रस्सी से बनाए जाल में टांगकर उसे सुरक्षित बेतवा नदी में छोड़ दिया है। रस्सी से बनाए जाल में टांगकर उसे सुरक्षित बेतवा नदी में छोड़ दिया है।
किसान भगवान सिंह ने बताया- मगरमच्छ को देखकर ग्रामीण दहशत में थे। इसलिए शायद उसे मारने वाले थे। किसान भगवान सिंह ने बताया- मगरमच्छ को देखकर ग्रामीण दहशत में थे। इसलिए शायद उसे मारने वाले थे।