--Advertisement--

अवैध खनन के खिलाफ किसानों का आंदोलन, कहा- बुंदेलखंड में भ्रष्ट अधिकारियों का जमावड़ा

बुन्देलखण्ड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा 16 दिसंबर से ओवरलोड वाहनों के खिलाफ आमरण अनशन पर बैठ गए हैं।

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 09:52 AM IST
किसान नेता का कहना है कि शासन और प्रशासन की माफियाओं से मिलीभगत है। किसान नेता का कहना है कि शासन और प्रशासन की माफियाओं से मिलीभगत है।

महोबा. बालू के अवैध खनन और ओवरलोड वाहनों की निकासी के खिलाफ बुंदेलखंड किसान यूनियन ने आंदोलन का रास्ता अपनाया है। बुन्देलखण्ड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा 16 दिसंबर से ओवरलोड वाहनों के खिलाफ आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। वहीं, किसानों ने इस आंदोलन का समर्थन किया है।


शासन और प्रशासन का माफियाओं से मिलीभगत

-विमल शर्मा ने कहा- "पूर्व की सपा सरकार में बालू निकालने के लिए ट्रैक्टर चलते थे इस सरकार में ट्रकों से बालू निकाली जा रही है। शासन और प्रशासन का माफियाओं से मिलीभगत है। बुंदेलखंड का किसान ऐसे नेताओं से अब जूते से बात करेगा। बुंदेलखंड में भ्रष्ट अधिकारियों का जमावड़ा है। जनप्रतिनिधियों और प्रशासन की शह पर माफिया बुंदेलखंड को खोखला कर रहे हैं।"
-वहीं, संगठन के राष्टीय उपाध्यक्ष श्रवण कुमार ने कहा- "ओवरलोड से बुंदेलखंड की सड़कें बर्बाद हो रही हैं तो वहीं नदियों से हो रहे खनन के कारण जलस्तर गिर रहा है। ऐसे में अब किसान आरपार की लड़ाई लड़ने को तैयार है।"

कई वर्षों से सूखे की मार झेल रहा बुंदेलखंड

-मध्यप्रदेश की सीमा से सटे बुंदेलखंड में नदियों से बालू का खनन किया जा रहा है। यहां से बड़े-बड़े ट्रक ओवरलोड बालू को भरकर हज़ारों की तादाद में सड़कों से गुजर रहे हैं। जिससे यहां की सड़के बर्बाद हो रही हैं। यही नहीं बुन्देलखंड के अन्य जनपदों में भी नदियों से बालू निकाली जा रही है। जिससे यहां का जलस्तर लगातार नीचे खिसकता जा रहा है। ये क्षेत्र पिछले कई वर्षों से सूखे की मार झेलने को मजबूर है।
-बुन्देलखण्ड किसान यूनियन कई बार धरना प्रदर्शन कर आला अधिकारियों को ओवरलोड बन्द करने के लिए शिकायत कर चुका है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में अब बुंदेलखंड किसान यूनियन ने माफियाओं और प्रशासन के खिलाफ आंदोलन का रास्ता चुना है।
-बुंदेलखंड किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल शर्मा हाइवे किनारे पनवाड़ी कस्वा में आमरण अनशन पर बैठ गए हैं। 16 दिसम्बर को आमरण अनशन पर बैठे विमल शर्मा को बुंदेली किसानों का समर्थन मिल रहा है।

एकत्रित हो रहे हैं किसान

-आसपास के किसान भी अब आमरण अनशन पर इकट्ठा हो रहे हैं। विमल शर्मा की मांग है कि महोबा जनपद सहित पूरे बुन्देलखण्ड में ओवरलोड वाहनों को पूरी तरह बंद किया जाए।
-साथ ही किसानों के कर्ज माफ, सिंचाई, बिजली मुफ्त जैसी मांगे की जा रही हैं। किसानों ने डीएम को जिम्मेदार मानकर डीएम के खिलाफ नारे लगाए।

लगातार अवैध खनन के कारण नदियों का जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है। लगातार अवैध खनन के कारण नदियों का जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है।
आंदोलन को किसानों का समर्थन मिल रहा है। आंदोलन को किसानों का समर्थन मिल रहा है।
X
किसान नेता का कहना है कि शासन और प्रशासन की माफियाओं से मिलीभगत है।किसान नेता का कहना है कि शासन और प्रशासन की माफियाओं से मिलीभगत है।
लगातार अवैध खनन के कारण नदियों का जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है।लगातार अवैध खनन के कारण नदियों का जलस्तर लगातार गिरता जा रहा है।
आंदोलन को किसानों का समर्थन मिल रहा है।आंदोलन को किसानों का समर्थन मिल रहा है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..