Hindi News »Uttar Pradesh »Jhansi» GIC College Made By Sri Lankan Stone In Jhansi

1927 में श्रीलंकाई पत्थरों से तैयार हुआ था ये कॉलेज, बनने में लगा था इतने साल

झांसी में राजकीय इंटर कॉलेज को बनाने के लिए श्रीलंका से पत्थर मंगाया गया था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 23, 2017, 09:30 AM IST

  • 1927 में श्रीलंकाई पत्थरों से तैयार हुआ था ये कॉलेज, बनने में लगा था इतने साल
    +3और स्लाइड देखें
    1927 में इस कॉलेज का निमार्ण हुआ था।

    झांसी (यूपी). यहां के राजकीय इंटर कॉलेज को बुंदलेखंड में शिक्षा के प्रमुख केंद्र के रूप में पहचाना जाता था। इस कॉलेज को और अधिक सुंदर बनाने के लिए श्रीलंका से पत्थर मंगवाया गया था। इसके लिए ब्रिटिश असेम्बली में कई दिनों तक बहस चली, जिसके बाद इसके लिए बजट पास हुआ था। बनने में लगा था 10 साल का समय...

    - स्पोर्ट टीचर अजय सिंह ने कहा, ''54 एकड़, 3 डिस्मल में बने इस भव्य राजकीय इंटर कॉलेज को बनाने में 10 साल का समय लगा था। यह 1921 में पूरी तरह से बनकर तैयार हो गया था।
    - विद्यार्थी अधिक होने की वजह से इसे 2 पाली में चलाया जाता था। कॉलेज में क्लास रूप, पुस्तकालय, एनसीसी, एनएसएस, स्टोर, मनोरंजन हॉल समेत कुल 55 कमरे बने हैं।

    दशकों तक रहा शिक्षा का प्रमुख केंद्र
    - झांसी का राजकीय इंटर कॉलेज कई दशकों तक बुंदेलखण्ड में शिक्षा का प्रमुख केंद्र माना जाता रहा है। 1927 से यहां स्टूडेंट इतनी अधिक संख्या में आते थे कि उन्हें 2 पालियों में पढ़ाया जाता था।
    - इसके बाद लगातार छात्रों की संख्या कम होती चली गई और 2012 में विद्यालय को एक ही पाली में करना पड़ा। वर्तमान समय में विदयालय में 974 छात्र हैं और 27 प्रवक्ता होने चाहिए, लेकिन 12 प्रवक्ता ही हैं।
    - एलटी ग्रेट शिक्षकों की मानक के अनुसार 40 जगह है लेकिन 24 की ही पोस्टिंग है। मौजूदा समय में इस कॉलेज में इंटरमीडिएट तक कला, विज्ञान, वाणिज्य व व्यावसायिक शिक्षा की व्यवस्था है।

    एक्स सीएम का मोह लिया था मन
    - इस कॉलेज की भव्यता ने एक्स सीएम अखिलेश यादव का भी मनमोह लिया था। उन्होंने तत्काल ही अधिकारियों को इसका हेरीटेज लुक बरकरार रखते हुए नया प्रस्ताव भेजे जाने के निर्देश दिया था, साथ ही डीएम से इसकी रिपेयरिंग के लिए बजट भी मांगा था।
    - कॉलेज के जीर्णोद्धार के लिए 16.33 करोड़ रुपए का प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। जिसके पास होते ही विशाल ग्राउंड पर एक फीट मिट्टी की लेयर डाली गई। ताकि बारिश में जल भराव की समस्या न रहे।
    - इसके अलावा पूरे परिसर में 6 फीट ऊंची बाउंड्री वॉल बनाई गई है। विद्यालय के दरवाजे-खिड़की बदले गए हैं। साथ ही छत व दीवारों का प्लास्टर भी किया गया है। प्रधानाचार्य आवास, 12 टीचर्स क्वार्टर, 2 चौकीदार क्वार्टर, इंडोर गेम्स के लिए हॉल तथा पूरे विद्यालय परिसर में लाइटिंग की व्यवस्था की गई।

  • 1927 में श्रीलंकाई पत्थरों से तैयार हुआ था ये कॉलेज, बनने में लगा था इतने साल
    +3और स्लाइड देखें
  • 1927 में श्रीलंकाई पत्थरों से तैयार हुआ था ये कॉलेज, बनने में लगा था इतने साल
    +3और स्लाइड देखें
    पहले कॉलेज में स्टूडेंट्स की संख्या अध‍िक होने के कारण 2 पाली में पढ़ाई होती थी।
  • 1927 में श्रीलंकाई पत्थरों से तैयार हुआ था ये कॉलेज, बनने में लगा था इतने साल
    +3और स्लाइड देखें
    ये कॉलेज 54 एकड़ में फैला हुआ है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: GIC College Made By Sri Lankan Stone In Jhansi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jhansi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×