Hindi News »Uttar Pradesh News »Jhansi News» Girl Turn Modeling During Engineering

इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट

राम नरेश यादव | Last Modified - Feb 06, 2018, 11:51 AM IST

झांसी. यहां की रहने वाली श्रेया शुक्ला ने इंजीनियरिंग छोड़ मॉडलिंग में अपना करियर बनाया।
  • इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट
    +4और स्लाइड देखें
    22 साल की श्रेया शुक्ला यूपी के झांसी की रहने वाली हैं।

    झांसी. यहां की रहने वाली श्रेया शुक्ला ने इंजीनियरिंग छोड़ मॉडलिंग में अपना करियर बनाया। मुंबई में आयोजित डैलीवुड कॉम्पटीशन में इन्होंने पार्टीसिपेट किया और मिस यूपी का ताज अपने नाम किया। फाइनल में वह टॉप 15 में पहुंची और डैलीवुड मिस इंड‍िया सेकंड रनर अप रहीं। DainikBhaskar.com से बातचीत में श्रेया ने अपनी लाइफ से जुड़ी कुछ बातें शेयर की।

    8 हजार कंटेस्टेंट के बीच जीता था ये ख‍िताब

    - 22 साल की श्रेया शुक्ला ने बताया, मेरे पापा नवीन चंद्र शुक्ला रेलवे में सीनियर सेक्शन इंजीनियर हैं और मां रेनू हाउस वाइफ। मेरी प्राइमरी एजुकेशन कैथेड्रिक स्कूल से शुरू, फिर बीटेक किया।
    - मम्मी-पापा चाहते थे कि मैं इंजीनियर बनूं और सेल्फ डिपेंड हो जाऊं, पढ़ाई के दौरान मैं भी यही सोचती थी। लेकिन किस्मत में जो लिखा होता है, वही होकर रहता है।
    - मुझे बचपन से डांस का बहुत शौक था, कॉलेज के एनुअल फंक्शन में हमेशा पार्टिसिपेट करती थी। उस दौरान 2013 में मुझे मिस पनाश का खिताब मिला। यही वो समय था जब मैं एकदम से मॉडलिंग की ओर आकर्षित हो गई।
    - मैं ट्रेडिशनल म्यूजिकल फंक्शन मैं बढ़-चढ़कर पार्टिसिपेट करने लगी और मुझे कॉलेज का कल्चरल सेक्रेटरी बना दिया गया।
    - 2017 में बीटेक कंप्लीट करने के बाद मैंने मिस डैलीवुड कॉम्पटीशन में पार्टिसिपेट किया और सेमीफाइनल तक पहुंची। हांलाकि, मेरे सिर पर मिस यूपी का ताज सजा। कॉपटीशन में देश से 8 हजार कंटेस्टेंट आईं थीं, उनके बीच यह सम्मान पाना मेरे लिए बहुत बड़ी बात थी।

    पर्यावरण बचाओ मिशन की रह चुकी ब्रांड एंबेसडर

    - श्रेया के पापा नवीन शुक्ला बताते हैं, मैंने बेटी की बचपन से ही इंजीनियरिंग को सोचते हुए पढ़ाई कराई। समय के साथ-साथ यह लगता था कि बेटी एक अच्छी इंजीनियर बनेगी। लेकिन इंजीनियरिंग करते-करते बेटी ने मॉडलिंग मैं अपना करियर बनाना शुरु कर दिया।
    - पहले तो मुझे और पत्नी को कुछ अजीब सा लगा, लेकिन बाद में हमने भी बेटी का पूरा सपोर्ट किया। इस समय बेटी देश की एक जानी-मानी NGO यूथ फॉर नेशन की सक्रिय सदस्य है।
    - मॉडलिंग के साथ-साथ श्रेया बास्केटबॉल की अच्छी प्लेयर रही है। बेटी एसटीसी नार्थ सेंट्रल रेलवे झांसी की पर्यावरण बचाओ मिशन की ब्रांड एंबेसडर रह चुकी है। इसके अलावा वह बुंदेलखंड फिल्म एसोसिएशन झांसी की कार्यकारिणी सदस्य भी है।
    - झांसी ओलंपिक गोला फेंक कॉम्पटीशन में उसने गोल्ड मेडल जीता था।

  • इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट
    +4और स्लाइड देखें
  • इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट
    +4और स्लाइड देखें
  • इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट
    +4और स्लाइड देखें
  • इंजीनियरिंग करते-करते मॉडल बनी ये 22 साल की लड़की, ये था टर्न‍िंग प्वाइंट
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Girl Turn Modeling During Engineering
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Jhansi

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×