Hindi News »Uttar Pradesh »Jhansi» Indian Prisoners In Pak Jail Write Letter To Her Family

PAK जेल में बंद इंडियन्स ने फैमिली को लिखा लेटर, बताया कैसा है हाल

बांदा. यहां के जसईपुर गांव के करीब 12 युवकों को 2 महीने पहले पाक आर्मी ने गिरफ्तार कर लिया था।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2018, 08:10 PM IST

PAK जेल में बंद इंडियन्स ने फैमिली को लिखा लेटर, बताया कैसा है हाल

बांदा. यहां के जसईपुर गांव के करीब 12 युवकों को 2 महीने पहले पाक आर्मी ने गिरफ्तार कर लिया था। समुद्र में शिकार खेलते समय युवक पाक सीमा में दाखिल हो गए थे, जिसके बाद उन्हें ओखा बंदरगाह के आगे से अरेस्ट किया गया। तब से सभी कराची की लांदी जेल में बंद हैं। जेल से युवकों ने अपने परिजनों को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने वहां का हाल बताया।


लेटर में लिखा हम अच्छी तरह रह रहे हैं...
- ग्राम प्रधान ज्ञानसिंह ने बताया, गांव का रहने वाला ओमप्रकाश ने पाक जेल से चिट्ठी लिखी है।
- चिट्ठी में लिखा है, ''हम लोग खूब अच्छी तरह रह हैं। दुआ करते हैं कि आप भी अच्छे से होंगे। दीपू को फोन कर बोल देना कि 10-20 हजार रुपए आकर देगा। जब मैं वापस आऊंगा तो उसका पैसा वापस दूंगा।''
- ''मेरा आधार कार्ड और राशन कार्ड की फोटोकापी भेज देना। ऊपर वाला इम्तहान ले रहा है। माता-पिता को चरण स्पर्श और छोटे भाई-बहनों को प्यार।''
- ''ओमप्रकाश की पत्नी रानी ने बताया, मुझे खत मिला, जिसमें लिखा है कि वे सकुशल है। उसके बाद मैंने राहत की सांस ली।''
- वहीं, जेल में बंद अन्य युवक अमित की मां चुनबद्दी और पत्नी मुन्नी ने बताया, ''अमित की कमाई से ही पूरे घर का खर्च चलता था। अब कोई काम करने वाला नहीं है, किसी तरीके से गुजर बसर हो रहा है।''
- मुन्नी ने कहा, ''हमारा कोई सहारा नहीं है। किसी तरह से मजदूरी कर अपना पेट पाल रही हूं, पति के साथ-साथ मेरा भाई भी पाक जेल में है।''
- ''पहले तो अधिकारी और नेता यहां आए, लेकिन अब कोई हाल पूछने तक नहीं आता।''
- ''जेल में बंद अन्य युवक देवी शरण की पत्नी का कहना है, मुझे कोई चिट्ठी नहीं मिली, पति किस हाल में है, कोई जानकारी नहीं। किसी तरह कर्ज लेकर अपना और बच्चों का पेट पाल रही हूं। उम्मीद है कि पति जब वापस आएंगे तो कर्ज चुका देंगे।''

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Jhansi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×