Hindi News »Uttar Pradesh »Jhansi» Justice Shivpal Singh Interview Who Punished For Lalu Yadav In Fooder Scam

लालू को सजा सुनाने वाले जज के मामले में आया एक्शन, गांव पहुंची पुलिस

जज शि‍वपाल सिंह ने बताया, खबर मीड‍िया में आने के बाद पुलिस पर दबाव बना है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 09, 2018, 06:22 PM IST

  • लालू को सजा सुनाने वाले जज के मामले में आया एक्शन, गांव पहुंची पुलिस
    +2और स्लाइड देखें
    लालू को सजा सुनाने वाले जज श‍िवपाल सिंह यूपी के जालौन के शेखपुरा खुर्द गांव के रहने वाले हैं।

    जालौन.चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव को सजा सुनाने वाले जस्टिस शिवपाल सिंह खुद यूपी के जालौन में आला अफसरों के चक्कर लगा रहे हैं। उन्होंने इसकी शिकायत जालौन के तहसीलदार से लेकर उपजिलाधिकारी से की है। इसके बाद भी उनकी समस्या पर अफसरों ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। इस वजह से उनका परिवार परेशान है। मंगलवार को उन्होंने बताया, खबर मीड‍िया में आने के बाद पुलिस पर दबाव बना है। इसके बाद एसडीएम और संबंध‍ित अध‍िकारी एक्शन में आए हैं। सभी गांव पहुंचकर मामले को सुलझाने की कोशि‍श कर रहे हैं।

    ये है मामला....

    - दरअसल, जस्टिस शिवपाल सिंह जालौन जिले के शेखपुर खुर्द गांव के रहने वाले हैं। उनकी जमीन इसी गांव में है। जस्टिस शिवपाल सिंह के भाई सुरेंद्र पाल सिंह ने बताया, ''उनके भाई शिवपाल की जमीन शेखपुर खुर्द में अराजी नंबर-15 और 17 है।''
    - ''इस जमीन पर पूर्व प्रधान सुरेंद्र पाल सिंह ने कार्यकाल के दौरान बिना किसी अधिकार के चकरोड बनवा दिया। जबकि सरकारी कागजों में चकमार्ग गाटा संख्या- 13 है। पूर्व प्रधान ने चकमार्ग गाटा संख्या- 13 की तरफ से रास्ते को बंद कर अपने खेत में शामिल कर दिया।"


    हमारी शिकायत पर किसी ने नहीं दिया ध्यान
    - सुरेंद्र पाल ने बताया कि कई बार उनके भाई जस्टिस शिवपाल सिंह तहसीलदार से लेकर जालौन के डीएम से मिले। आला अफसरों ने हमारी शिकायत का कोई हल नहीं निकाला।


    राजस्व टीम ने की थी पैमाइश: तहसीलदार

    - वहीं, तहसीलदार जितेंद्र पाल सिंह का कहना है, "उनके पास शिकायत आई थी। उनकी बात सुनने के बाद राजस्व टीम को मौके पर भेजा गया था। पैमाईश भी कराई गई थी। उसके बाद उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया। जहां चकरोड है, वहीं पर चकरोड बनाया जाएगा। पैमाइश के दौरान निशान लगवाए गए थे।

    DM बोले- पहले कानून पढ़ के आइए

    - जस्टिस शि‍वपाल सिंह के मुताबिक, ''मैं लगातार 11 साल से इस विवाद काे लेकर परेशान चल रहा हूंं। कई बार जिले के डीएम और एसपी के पास श‍िकायत लेकर गया था, लेकिन जिला से मुझे कोई मदद नहीं मिली। 12 अक्टूबर 2017 में तत्कालीन DM मन्नान अख्तर को जब मैंने अपना परिचय दिया तो उसने बोला- आप जाइए पहले कानून का पाठ पढ़ के आइए, तो मुझसे बात कीजिएगा।''

    - ''मुझे बहुत बुरा लगाा, लेकिन कुछ कहे बगैर मैं वहां से चला आया।''

    क्या है देवघर ट्रेजरी केस और क्या है लालू पर आरोप ?

    - बिहार सरकार ने 1991 से 1994 के बीच मवेशियों की दवा और चारा खरीदने के लिए सिर्फ 4 लाख 7 हजार रुपए ही पास किए थे, जबकि इस दौरान देवघर ट्रेजरी से 6 फर्जी अलॉटमेंट लेटर से 89 लाख 4 हजार 413 रुपए निकाले गए।
    - बिहार के सीएम और वित्त मंत्री लालू प्रसाद पर आरोप था कि उन्होंने पद का दुरुपयोग करते हुए मामले की इंक्वायरी के लिए आई फाइल को 5 जुलाई 1994 से 1 फरवरी 1996 तक अटकाए रखा। फिर 2 फरवरी 1996 को जांच का आदेश दिया।

  • लालू को सजा सुनाने वाले जज के मामले में आया एक्शन, गांव पहुंची पुलिस
    +2और स्लाइड देखें
    लालू प्रसाद यादव पर ट्रेजरी से गैरकानूनी ढंग से पैसा निकालने के मामले की जांच की फाइल बेवजह अटकाने का जुर्म साबित हुआ।
  • लालू को सजा सुनाने वाले जज के मामले में आया एक्शन, गांव पहुंची पुलिस
    +2और स्लाइड देखें
    जज शि‍वपाल के मुताबिक, सजा सुनने के बाद लालू चुप हो गए थे और उनकी आंखें झुक गई थीं।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Justice Shivpal Singh Interview Who Punished For Lalu Yadav In Fooder Scam
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jhansi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×