Hindi News »Uttar Pradesh News »Jhansi News» Muslim Women Special Story In Mahoba

कुआं खोदने में जुटी 7 माह की प्रेग्नेंट सहित 4 महिलाएं, मर्दों को लगा डर

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 13, 2018, 12:31 PM IST

महोबा में एक ही परिवार की 4 महिलाएं कुंआ खोदने का काम कर रही हैं।
    • महोबा में महिनाएं कुंआ खोद रही हैं।

      महोबा (यूपी). यहां एक ही परिवार की 4 महिलाओं ने मर्दों को पीछे छोड़ते हुए कुंआ खोदने का जोखिम भरा काम शुरू किया है। एक ओर ये कुंआ खोदकर अपने परिवार को पाल रही है तो दूसरी ओर किसानों के खेतों को पानी मुहैया करा फसलों को जीवन दान दे रहीं है। इन महिलाओं की मेहनत देखकर लोग हैरान हो जाते हैं।

      एक ही परिवार से हैं महिलाएं...

      - यहां एक मुस्लिम परिवार की 4 महिलाएं अकीला, अमीना, फरीदा और रोशन मर्दों की तरह सूखे पड़े खेतों में कुंआ खोदने का काम कर रही है। इसमें 7 माह की गर्भवती रोशन भी कुंए में उतरकर खुदाई में लगी है।
      - किसान रामादीन ने कहा, ''किसान खेतों की प्यास बुझाने के लिए तड़प उठे लेकिन पथरीली जमीन पर कुए जैसे जोखिम भरे काम को कोई भी पुरुष करने को तैयार नहीं है।''

      - ''खेती से हताश नौजवान शहरों के लिए पलायन कर रहे हैं, जिससे अब घर की जिम्मेदारी के अलावा महिलाएं मर्दों का काम कर रही हैं। इसका उदाहरण ये मुस्लिम परिवार है।''

      कुंआ खोदकर भरती हैं पेट

      - अकीरा ने कहा, ''हमारे यहां सूखा पड़ा है, इस समय फसले पैदा नहीं हो पा रही है। ऐसे में हम किसानों के लिए कुंआ खोदते हैं और उनको पानी निकाल कर देते हैं। इससे हमारा पेट भर जाता है और किसान को पानी मिल जाता है।''
      - ''एक कुंए की खुदाई में 8 से 15 दिन तक का समय लग जाता है। हम एक ही परिवार की 4 महिलाएं हैं, सिर्फ पेट भरने के लिए खाना और तन को ढ़कने के लिए कपड़े भर के पैसे हम कमा पाते हैं।''
      - फरीदा ने कहा, ''कुंआ खोदने में बहुत मेहनत लगती है लेकिन पेट पालने के लिए हम सब महिलाएं इस खतरनाक काम को करती है। जहां-जहां सूखा पड़ता है हम लोग कुंआ खोदने के लिए जाते हैं, कभी-कभी हमें समय से पैसा मिल जाता है और कभी-कभी नहीं भी मिलता है।''

      - ''घर के पुरुष रोजगार के लिए बाहर गए हैं, वो भी मजदूरी करते है। ऐसे में मजबूरी में हमें ये काम करना पड़ता है।

      - किसान उमराव ने कहा, ''मजदूरी करने पर 200 रुपए रोज मिलता है। सूखा पड़ने की वजह से खेतों में सिंचाई के संसाधन फेल हो चुके हैं। मजबूरी में हमें कुंआ गहरा कराना पड़ता है, जिससे कुछ पानी आ जाए और हमारे खेतों की सिंचाई हो सके।''

    • कुआं खोदने में जुटी 7 माह की प्रेग्नेंट सहित 4 महिलाएं, मर्दों को लगा डर
      +3और स्लाइड देखें
      सूखा पड़े क्षेत्रों में करती है कुंए की खुदाई।
    • कुआं खोदने में जुटी 7 माह की प्रेग्नेंट सहित 4 महिलाएं, मर्दों को लगा डर
      +3और स्लाइड देखें
      कुंआ खोदकर पेट पालती है।
    • कुआं खोदने में जुटी 7 माह की प्रेग्नेंट सहित 4 महिलाएं, मर्दों को लगा डर
      +3और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Muslim Women Special Story In Mahoba
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    Stories You May be Interested in

        रिजल्ट शेयर करें:

        More From Jhansi

          Trending

          Live Hindi News

          0
          ×