Hindi News »Uttar Pradesh »Jhansi» Reality Check Of Mysterious Rock In Jhansi

बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच

झांसी में अठौंदना पहाड़ है। इस पहाड़ पर एक ऐसी रहस्यमई चट्टान है, जिसे अंग्रेजों ने गिराने की कोश‍िश की थी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 06, 2017, 10:00 PM IST

    • झांसी शहर से करीब 12 किलोमीटर दूर जंगल के किनारे अठौंदना पहाड़ पर यह चट्टान मौजूद है।

      झांसी. शहर से महज कुछ किलोमीटर दूर अठौंदना पहाड़ है। इस पहाड़ पर एक ऐसी रहस्यमई चट्टान है, जिसे अंग्रेजों से लेकर औरंगजेब की सेना तक ने हिलाने की कोश‍िश की, लेकिन सफल नहीं हुए। गौर करने वाली बात ये है कि एक भक्त के अंगूठे से चट्टान हिल जाती है। जमीन से करीब 600 फीट ऊंचाई पर इस चट्टान का DainikBhaskar.com की टीम ने रियलिटी चेक किया।

      जब माता ने भक्त के बेटे का मांगा था सिर...

      - झांसी शहर से करीब 12 किलोमीटर दूर जंगल के किनारे इस पहाड़ के पास टीम पहुंची तो वहां अपना आश्रम बनाकर रह रहे महंत राम कुमार गिरी से मुलाकात हुई।
      - महंत और उनके अन्य साथी के साथ हम पहाड़ की ओर चल दिए। रास्ते में महंत राम कुमार गिरी ने हमें मंदिर की कहानी सुनाई। उन्होंने बताया, "डुगडुगी माता मंदिर बहुत ही प्राचीन है। बताया जाता है कि कई साल पहले पहाड़ के नीचे पहुज नदी ने अपना विकराल रुप दिखाया था। ऐसी बाढ़ आई थी कि आसपास कुछ भी नहीं बचा।"
      - "एक गडरिया (चरवाहा) के पास उसका बेटा और 6-7 बकरियां बची थीं। वो बेटे के साथ इसी पहाड़ के नीचे बकरियां चरा रहा था। उसी समय चरवाहा को एक शिला दिखी और आवाज आई...मुझे उठाओ और पहाड़ी पर स्थापित करो। जब वह पास में गया तो माता ने उसे कन्या रूप में दर्शन दिए।"
      - "माता ने उससे कहा, तू मुझे पहाड़ के ऊपर ले चल। चरवाहा उनका हाथ पकड़कर पहाड़ पर ले आया, इस दौरान उसका बेटा भी उसके साथ था।"
      - "पहाड़ के ऊपर माता ने चरवाहा की परीक्षा ली और कहा- तू अपने बेटे का शीश काटकर मुझे चढ़ा दे। उसने पूरी भक्ति के साथ माता को अपने बेटे का सिर काटकर चढ़ा दिया।"
      - "बेटे की मौत से दुखी चरवाहा से माता ने कहा अब तू वापस जा। जब वो पहाड़ से नीचे उतर रहा था, तभी रास्ते में उसका बेटा जिंदा मिल गया। तभी से इस जगह की महत्ता बढ़ गई, लोग अपनी मनोकामना लेकर दूर-दूर से आने लगे।"

      गुस्साए अंग्रेजों ने मूर्ति पर बारूद के गोलों से किया था हमला

      - मंदिर के पुजारी बृजलाल ने बताया, "100 पहले से हमारे बुजुर्ग बताते चले आए हैं, लेकिन यह कंफर्म नहीं है कि इस मंदिर को बने कितने साल बीत गए। जो भक्त सच्ची मनोकामना लेकर आता है, उससे यह पत्थर हिल जाता है।''

      - पहले औरंगजेब की सेना ने यहां हमला किया, लेकिन वे इस चट्टान को नहीं हिला सके। इसके बाद अंग्रेजी सेना ने इस पत्थर को हटाने की कोशिश की, वो भी सफल नहीं हुए। पत्थर न हटा पाने से गुस्साए अंग्रेजों ने माता की मूर्ति को बारूद के गोलों से खंडित कर दिया।"

      चट्टान के हिलने के रियलिटी चेक में हुआ ये खुलासा

      - मंदिर के ऊपर मौजूद चट्टान को पहले दोनों पुजारियों ने हिलाया। उन्होंने अपने दोनों हाथ के अंगूठे एक जगह लगाए और चट्टान हिलने लगी।

      - इसके बाद dainikbhaskar.com के रिपोर्टर ने खुद दम के साथ चट्टान को हिलाया, लेकिन कोई असर नहीं हुआ। फिर पुजारी की तरह एक प्वाइंट पर अपने दोनों हाथ के अंगूठे लगाए, तो चट्टान हिलने लगी।

      - रियलटी चेक में सामने आया कि चट्टान में ऐसा कोई विशेष चमत्कार नहीं है। बस उसका बेलेंस है, जो सिर्फ एक प्वाइंट से हिलती है।

    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
      रियलिटी चेक में रिपोर्टर ने खुद चट्टान को हिलाने की कोश‍िश की।
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
      कभी औरंगजेब की सेना ने यहां हमला किया, लेकिन वे इस चट्टान को नहीं हिला सके।
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
      अंग्रेजी सेना ने भी इस पत्थर को हटाने की कोशिश की, लेकिन वो भी सफल नहीं हुए।
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
      जमीन से करीब 600 फीट ऊंचाई पर मौजूद है ये चट्टान।
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
      पहाड़ पर डुगडुगी माता का मंदिर है, जिसके ऊपर वो विशाल चट्टान है।
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
    • बड़ी-बड़ी सेना नहीं हिला सकीं ये चट्टान, 1 उंगली से हिलती है वो, सामने आया सच
      +8और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Reality Check Of Mysterious Rock In Jhansi
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Jhansi

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×