--Advertisement--

इस शख्स ने अकेले खोद डाला इतना बड़ा तालाब, आज लोगों के लिए बना मिशाल

बुंदेलखंड में एक शख्स ने 8 बीघा खेत को खोदकर तालाब दिया।

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2017, 10:10 AM IST
हमीरपुर में एक शख्स ने अकेले त हमीरपुर में एक शख्स ने अकेले त

हमीरपुर (यूपी). बुंदेलखंड लगातार कई सालों से सूखे की मार झेल रहा है। ऐसे में संत बाबा कृष्णानंद ने अपनी 2 साल की कड़ी मेहनत से 8 बीघा खेत को खोदकर तालाब बना दिया। आज इससे सैकड़ों लोग अपनी प्यास बुझाते हैं।

12वीं पास कर बन गए थे सन्यासी...

- बाबा कृष्णानंद ने 12वीं तक की पढ़ाई की है। महज 18 साल की उम्र में ही वे सन्यासी बन गए थे।
- स्थानीय निवासी आदित्य ने बताया, ''अपने गांव के लोगों की प्यास बुझाने के लिए कृष्णानन्द ने खुद ही तालाब खोद दिया। करीब 2 साल से दिन रात मेहनत कर इन्होंने 18 फुट गहरा तालाब खोद डाला।''
- ''इन्होंने जब तालाब की खुदाई शुरू की तो गांव वालो ने इनको पागल कहकर खूब मजाक उड़ाया, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और अपने अटूट इरादों से तालाब को खोदने में जुटे रहे और आज वो गांव वालो के लिए एक सबब बन गया है।''

क्या कहते हैं कृष्णानंद

- कृष्णानंद ने बताया, ''गांव वाले पानी की समस्या से लगातार जूझ रहे थे लेकिन उपाय उनके सामने था। वो समझ नहीं पा रहे थे। मैं समझ गया कि ये लोग कुछ नहीं करेंगे मुझे ही कुछ करना होगा, इसीलिए मैने तालाब की खुदाई चालू कर दी।''
- गांव के रहने वाले राकेश ने बताया, ''सरकार इस समय बुंदेलखंड में खेत तालाब योजना पर जोर दे रही है। मनरेगा से भी तालाबों की खुदाई हो रही है लेकिन तालाब की खुदाई में महज 2 फुट की गहराई के लिए मजदूरो को 200 से 250 रुपए का भुकतान किया जा है।''
- ''कृष्णानन्द ने अकेले दम ही 8 फुट गहरा तालाब खोद डाला है। साथ ही मिट्टी ऊपर लाकर पुरे तालाब की मेड़ बंदी भी कर दी है। जिस काम को सैकड़ों मजदूर करते उस काम को कृष्णानन्द ने अकेले ही भूखे पेट रहकर अंजाम दे डाला है। इन्होंने बुंदेलखंड में बारिश के पानी के प्रबंधन की एक नई पहल शुरू की है।''

X
हमीरपुर में एक शख्स ने अकेले तहमीरपुर में एक शख्स ने अकेले त
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..