Home | Uttar Pradesh | Jhansi | story of mysterious fort in jhansi

जब खूबसूरती बनी राजकुमारी की दुश्मन, इस किले से कूदकर देनी पड़ी जान

झांसी. पद्मावत 24 जनवरी को कुछ जगह रिलीज हुई, जिसको लेकर काफी बवाल हुआ।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Jan 24, 2018, 10:00 PM IST

1 of
story of mysterious fort in jhansi
झांसी के इसी किले से राजकुमारी ने किया था जौहर।

झांसी. पद्मावत 25 जनवरी को कुछ जगह रिलीज हुई, जिसको लेकर काफी बवाल हुआ। dainikbhaskar.com आपको 1300 ई. के आसपास की एक रियल कहानी बताने जा रहा है। बुंदेलखंड के राजा राजा मानसिंह की खूबसूरत बेटी राजकुमारी केसर के साथ 100 महिलाओं के जौहर की गाथा आज भी लोक गीतों में भी पाई जाती है।

 

मोहम्मद तुगलक ने राजकुमारी के पास भेजा था शादी का प्रस्ताव...

- इतिहास के जानकार/लेखक जानकीशरण वर्मा ने बताया, झांसी के गढ़ कुंडार किले का इतिहास भी कुछ अनसुलझी पहेली जैसा लगता है। यहां चंदेलो का पहले से ही एक किला था। जिसे जिनागढ़ के नाम से जाना जाता था।
- खंगार वंशीय खेत सिंह बनारस से 1180 के करीब बुंदेलखंड आए और जिनागढ़ पर कब्जा कर लिया। उन्होंने एक नए राज्य की स्थापना की। उनके पोते ने किले का नव निर्माण करवाया और गढ़ कुंडार नाम रखा।
- खंगार राजवंश के ही अंतिम राजा मानसिंह की एक सुंदर बेटी थी, जिसका नाम केसर था। उसकी सुंदरता के चर्चे दिल्ली तक थे।

- इसी कारण दिल्ली के सुल्तान मोहम्मद तुगलक ने राजकुमारी के साथ शादी करने का प्रस्ताव भेजा, लेकिन राजा मान सिंह ने इनकार कर दिया।

 

 

राजकुमारी का चेहरा देखने की जताई थी इच्छा
- राजा के इनकार करने के बाद मोहम्मद तुगलक बैलगाड़ी पर सवार होकर मानसिंह के पास पहुंचा, जहां उसने राजकुमारी का चेहरा देखने की इच्छा जाहिर की, लेकिन राजा नहीं माने।
- इस पर तुगलक ने गढ़कुंडार पर आक्रमण कर दिया, भयंकर नरसंहार हुआ। सेना को हारते देख राजकुमारी ने अपनी इज्जत बचाने के लिए किले की छत से जौहर कुंड में कूदकर जान दे दी।
- ये देख किले में मौजूद दूसरी करीब 100 नौकरानियों-बच्चों ने भी राजकुमारी के बाद किले से कूद कर जौहर कर लिया।
- आज के समय में बुंदेलखंड में केसर के जौहर की गाथा लोक गीतों में भी पाई जाती है। मोहम्मद तुगलक ने किले और विजित भूभाग को बुंदेलों को सौंप दिया। सन 1531 में राजा रुद्र प्रताप ने बुंदेलों की राजधानी गढ़ कुंडार से ओरछा ट्रांसफर कर दी।

story of mysterious fort in jhansi
बुंदेलखंड के राजा राजा मानसिंह की खूबसूरत बेटी राजकुमारी केसर ने किले से कूदकर किया था जौहर।
story of mysterious fort in jhansi
इतिहास के जानकार जानकीशरण वर्मा ने बताया, झांसी के गढ़ कुंडार किले पर पहले चंदेलो का राज था। उस समय इसे जिनागढ़ के नाम से जाना जाता था।
story of mysterious fort in jhansi
राज‍कुमारी केसर की सुंदरता के चर्चे दिल्ली तक थे।
story of mysterious fort in jhansi
दिल्ली के सुल्तान मोहम्मद तुगलक ने राजकुमारी के साथ शादी करने का प्रस्ताव भेजा, लेकिन राजा मान सिंह ने इनकार कर दिया।
story of mysterious fort in jhansi
राजा के इनकार करने के बाद मोहम्मद तुगलक बैलगाड़ी पर सवार होकर मानसिंह के पास पहुंचा और राजकुमारी का चेहरा देखने की इच्छा जाहिर की, लेकिन राजा नहीं माने।
story of mysterious fort in jhansi
राजा के मना करने के बाद गुस्साए तुगलक ने गढ़कुंडार पर आक्रमण कर दिया, भयंकर नरसंहार हुआ।
story of mysterious fort in jhansi
सेना को हारते देख राजकुमारी ने अपनी इज्जत बचाने के लिए किले की छत से जौहर कुंड में कूदकर जान दे दी।
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now