Hindi News »Uttar Pradesh »Jhansi» Rich Man Daughter Marry With Poor Boy Due To Love

MA पास करोड़पति‍ लड़की को दि‍ल दे बैठा था अनपढ़ फेरी वाला, फि‍र क्‍या हुआ

यूपी के झांसी की यह कहानी दि‍लचस्‍प है। अपने सोशल वर्क के काम से युवती इलाके में फेमस है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2017, 12:10 AM IST

  • झांसी. शहर की MA पास एक करोड़पति‍ लड़की ने यूपी के सीएम अखिलेश यादव से इंस्‍पायर होकर समाज सेवा शुरू कर दी थी। उस लड़की को एक अनपढ़ फेरी वाले ने 1 जनवरी 2005 को देखा और दि‍ल दे बैठा। लड़की ने शादी से मना कर दि‍या तो इस प्रेमी ने कुएं में छलांग लगा दी। कि‍सी तरह जान बची। बाद में माता-पि‍ता की इच्‍छा के खि‍लाफ लड़की ने उस युवक से शादी कर ली। गरीबी के कारण जमीन पर ही सुहागरात मनानी पड़ी। अब अखि‍लेश यादव से प्रभावि‍त होकर यह युवती समाजसेवा करती है। क्‍या है पूरा मामला...
    -झांसी के शीपरी बाजार थाना क्षेत्र के रहने वाले गुलाब खान के दो बेटी और दो बेटे हैं।
    -उनके पास ऑन रोड लाखों का मकान और झांसी के आसपास खेती की कुछ जमीन भी है।
    -उनकी बड़ी बेटी शबाना खान साल 2005 में न्यू ईयर के समय अपने घर के गेट पर खड़ी थी। उसी समय वहां से मो. ताहिर कपड़े बेचने के लि‍ए गुजरा तो उसकी नजर शबाना पर पड़ गई।
    -शबाना बताती हैं, ‘जब ताहिर ने मुझे देखा तो वह पहली ही नजर में दिल दे बैठा। उसके बाद उसने मेरे घर रिश्ता पहुंचाया।’
    -‘मेरे मम्मी-पारा को जब पता चला कि लड़का कपड़ों की फेरी लगाता है तो उन्होंने कहा यह रिश्ता करना तो बहुत दूर की बात है हम इस रिश्ते के बारे में सोच भी नहीं सकते।’
    -‘मना करने के कुछ दिन बाद ताहिर मुझसे मिला और कहने लगा कि मैं तुमसे प्यार करने लगा हूं, मुझे अपना लो मैं तुम्हारे बगैर नहीं जी सकता।’
    -‘यह सुन मैने ताहिर को गालियां देते हुए हड़का दिया कि तेरे जैसे प्यार करने वाले तो गली-गली घूमते हैं।’
    कुएं में कूद गया प्रेमी
    -'मुझे नहीं पता था कि इसका अंजाम क्या होगा?...दूसरे दिन मुझे मेरी सहेली ने बताया कि तेरा मजनूं तो महारानी लक्ष्मीबाई के किले के अंदर कुएं में कूद गया।'
    -'मैं बहुत डर गई और अपने मम्मी-पापा को बगैर बताए हॉस्पिटल पहुंच गई।'
    -‘वहां जाकर देखा तो ताहिर को मामूली सी चोटें आई थी मैने उसी समय ताहिर को बहुत समझाया और उससे कहा कि ऐसा कोई कदम न उठाओ मेरे पापा-मम्मी इस रिश्ते को कभी मंजूरी नहीं देंगे।’
    -‘मेरा उस समय ताहिर के प्रति कुछ लगाव तो बड़ा लेकिन ताहिर अनपढ़ था और मैं पोस्ट ग्रेजुएट थी। मैं भी इस रिश्ते को ज्यादा पसंद नहीं कर रही थी।’
    -‘लेकिन उस घटना के एक महीने बाद ही ताहिर ने नींद की गोलियां खा ली और उसकी मम्मी मेरे घर पहुंच गई।‘
    -‘ताहिर की ऐसी दीवानगी देख मैं उसपर फिदा हो गई और अपने मां-बाप की इच्छा के बगैर 2 साल तक उसे डेट करती रही।’
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें फि‍र क्‍या हुआ...

  • शादी में मां-बाप नहीं हुए शामिल
    -जब शबाना ने ताहिर से शादी करने का फैसला ले लिए तो उसके मां-बाप ने इस रिश्ते का बहुत विरोध किया।
    -30 नवंबर 2007 को जब दोनों का निकाह हो रहा था तो शबाना के मां-बाप शामिल नहीं हुए। उसके दादा और दादी ने सारी रश्में पूरी कीं।
    -आज भी ताहिर और उसके सास-ससुर के रिश्ते सामान्य नहीं हुए हैं।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें कैसे मनाई सुहागरात...
  • जमीन पर बिस्तर लगा मनाई थी सुहागरात
    -ताहिर कपड़े की फेरी लगाता है उसके पास सिर्फ दो वक्त की रोटी के लिए ही पैसे बचते हैं।
    -यहां तक कि रहने के लिए उसके पास अपना खुद का मकान तक नहीं है।
    -शबाना शादी के बाद विदा होकर अपनी ससुराल पहुंची तो उसे सुहागरात जमीन पर बिस्तर बिछाकर मनानी पड़ी।
    -वह बताती हैं कि उसके पति के पास शादी के पहले से ही 4 लाख रुपए का कर्ज है। जो अभी तक नहीं पटा है।
    -उनका कहना है कि‍ शादी हुए हमारी 9 साल पूरे हो चुके हैं और अब हमारे दो बच्चे भी हैं। हम अभी भी जमीन पर सोते हैं।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पैशन है सोशल वर्क...
  • पैशन है सोशल वर्क
    -शबाना का पति फेरी लगाने चला जाता है और बड़ी बेटी मदरसा में पढ़ने के लिए चली जाती है। वह छोटी बेटी को लेकर गरीब महिलाओं की हेल्प करने के लिए निकल जाती है।
    -शबाना अभी तक ऐसी 1000 से ज्यादा महिलाओं की समाजवादी पेंशन बनवा चुकी है जो खुद अपने फॉर्म तक नहीं भर सकतीं।
    -वह महिलाओं के फॉर्म तो भरती ही हैं, उसके साथ-साथ घंटों ऑफिसों के चक्कर लगाती हैं।
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें क्‍या बनना चाहती थी युवती...
  • हीरोइन बनने का था सपना
    -शबाना कहती है, 'मेरा बचपन से सिर्फ एक ही सपना रहा है कि मैं तीनों खान में से किसी एक की फिल्म में हीरोइन बनूं।'
    -'अब मुझे लोगों की मदद करने में अच्छा लगता है। मेरी तमन्ना है कि एक बार सीएम अखिलेश यादव से मेरी मुलाकात हो। मैं उनकी टीम में काम करना चाहती हूं।'
    आगे की स्लाइड्स में पढ़ें उनके बारे में महि‍लाएं क्‍या कहती हैं...
  • क्या कहती है महिलाएं
    -नई बस्ती की चंदा देवी (35) कहती है कि मेरे पति बहुत शराब पीते है मेरे घर की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है।
    कई बार समाजवादी पेंशन के लिए ऑफिस जा चुकी थी, लेकिन दिक्कत हो रही थी। वहीं शबाना से मुलाकात हुई।
    -शबाना ने नि:स्‍वार्थ भाव से उनका फॉर्म भरा और उनके साथ लाइन में लगी रही। आज उसी की वजह से पेंशन आने लगी है।
    -रुक्सार (40) बताती हैं कि उसके पति उसके साथ समाजवादी पेंशन का फॉर्म भरने के लिए नहीं जा रहे थे।
    -शबाना उसे अपने साथ ले गई और फॉर्म भरकर जमा करवाया। उसके बाद घर तक छोड़ने आई। मोहल्ले में 90 प्रतिशत औररतों की समाजवादी पेंशन के फॉर्म उसी ने भरवाए। उसका स्‍वभाव बहुत अच्‍छा है।
    आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...
India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Jhansi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Rich Man Daughter Marry With Poor Boy Due To Love
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Jhansi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×