--Advertisement--

6 जवानों ने करवाई शहीद दोस्त की 2 बहनों की शादी

एक या दो नहीं, शहीद की तीन बहनों की शादी करवा चुके हैं CRPF के जवान।

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 08:08 PM IST
शहीद की बहन के साथ स्टेज पर CRPF की बटालियन के जवान। शहीद की बहन के साथ स्टेज पर CRPF की बटालियन के जवान।

महोबा. CRPF के जवान अपनी ड्यूटी निभाने के साथ ही दोस्ती की नई मिसाल भी कायम कर रहे हैं। डिप्टी कमांडेंट अजय साहा समेत 6 जवानों ने शहीद दोस्त की बहन की शादी धूमधाम से करवाई। 30 अप्रैल को शहीद की तीसरी बहन आरती की शादी में जवानों ने 5 लाख रु. दिए। इससे पहले ये 6 दोस्त शहीद राकेश कुमार चौरसिया की एक बहन की शादी करवा चुके हैं।

2006 में हुई थी दोस्ती

- अजय साहा, राजदीप गुप्ता, विनय कुमार, दीपक तिवारी, पंकज मोदी और प्रकाश भदौलिया सीआरपीएफ के शहीद जवान राकेश चौरसिया के बैचमेट्स हैं। दिसंबर 2006 में सीआरपीएफ के गुरुग्राम कैंप के 38वें बैच से 177 जवानों ने ट्रेनिंग पास आउट की थी। ये सभी दोस्त उसमें शामिल थे।
- ट्रेनिंग कंप्लीट होने के बाद इन सभी की पोस्टिंग माओवादी अफेक्टेड क्षेत्र सुकमा के चितागुफा में हुई थी। लंबा समय साथ बिताने की वजह से सातों दोस्तों में बेहतरीन बॉन्डिंग थी।

5 लाख रुपए किए गिफ्ट

- डिप्टी कमांडेंट अजय साहा ने बताया, "हम सभी अपने सुखदुख आपस में शेयर करते थे। राकेश अकसर अपनी तीनों बहनों की बातें किया करता था। वो कहता था कि मेरी एक बहन की शादी हो चुकी है, 3 बची हैं। उनकी शादी करवाना मेरी जिम्मेदारी ही नहीं, सपना भी है। 2009 में उसकी शहादत के बाद हम दोस्तों ने मिलकर राकेश की सिस्टर्स की जिम्मेदारी लेने का फैसला किया।"
- ये 6 सीआरपीएफ जवान राकेश चौरसिया की चार बहनों प्रतिमा, आरती, प्रभा और पिंकी में से प्रभा और आरती की शादी करवा चुके हैं।

- सबसे बड़ी बहन प्रतिमा की शादी राकेश के सामने ही हो गई थी। साल 2012 में दूसरी बहन प्रभा की शादी में CRPF के जवानों ने कराई थी।

- बीते 30 अप्रैल में ग्वालियर में हुई तीसरी बहन आरती की शादी में इन्होंने 5 लाख रुपए इकट्ठा कर राकेश के परिवार को दिए। यही नहीं, सभी दोस्त शादी में शामिल होने भी पहुंचे।

- शहीद के छोटे भाई सुरेश ने बताया, "हमें लगा था कि भइया के शहीद होने के बाद हम कमजोर पड़ जाएंगे, लेकिन उनके दोस्त हमारे गार्जियन बनकर सामने आए। पिछले 9 साल से ये हमारी फैमिली से जुड़े हुए हैं। सुख-दुख में साथ खड़े रहते हैं। अब मेरे एक नहीं कई भाई हैं।"

माओवादियों से मुठभेड़ में हुए थे शहीद

- यूपी के महोबा से ताल्लुक रखने वाले राकेश चौरसिया 18 सितंबर 2009 में छत्तीसगढ़ के चिंतागुफा थाना क्षेत्र में हुए सिंघमडगु ऑपरेशन में शहीद हुए थे। वे CRPF की कोबरा कमांडो बटालियन में शामिल थे।
- शहादत से पहले राकेश ने एक गन फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया था। साथ ही दंतेवाड़ा में हुए मुठभेड़ में नक्सलियों को ढेर किया था।

असिस्टेंट कमांडेंट रहे राकेश कुमार चौरसिया साल 2009 में शहीद हुए थे। असिस्टेंट कमांडेंट रहे राकेश कुमार चौरसिया साल 2009 में शहीद हुए थे।
CRPF jawans arrange wedding for martyr friend sister from uttar pradesh
CRPF jawans arrange wedding for martyr friend sister from uttar pradesh
X
शहीद की बहन के साथ स्टेज पर CRPF की बटालियन के जवान।शहीद की बहन के साथ स्टेज पर CRPF की बटालियन के जवान।
असिस्टेंट कमांडेंट रहे राकेश कुमार चौरसिया साल 2009 में शहीद हुए थे।असिस्टेंट कमांडेंट रहे राकेश कुमार चौरसिया साल 2009 में शहीद हुए थे।
CRPF jawans arrange wedding for martyr friend sister from uttar pradesh
CRPF jawans arrange wedding for martyr friend sister from uttar pradesh
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..