महोबा / रिटायरमेंट के चार माह पहले दरोगा ने कोतवाली में की खुदकुशी, सदमे में मां ने भी दम तोड़ा

महोबा पुलिस मामले की जांच में जुटी। महोबा पुलिस मामले की जांच में जुटी।
दरोगा रमाकांत सचान। -फाइल दरोगा रमाकांत सचान। -फाइल
X
महोबा पुलिस मामले की जांच में जुटी।महोबा पुलिस मामले की जांच में जुटी।
दरोगा रमाकांत सचान। -फाइलदरोगा रमाकांत सचान। -फाइल

  • महोबा जिले के शहर कोतवाली स्थित सरकारी आवास में मिला शव
  • अप्रैल 2020 में था रिटायरमेंट, प्रयागराज हो गया था ट्रांसफर

दैनिक भास्कर

Jan 03, 2020, 04:35 PM IST

महोबा. शहर कोतवाली में तैनात उपनिरीक्षक रमाकांत सचान का शुक्रवार सुबह परिसर स्थित आवास में फांसी के फंदे पर शव लटकता पाया गया। घटना की सूचना मिलते ही एसपी मणलाल पाटीदार सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि, कई सालों से महोबा में तैनात दरोगा का ट्रांसफर प्रयागराज हो गया था। जिसके कारण वह तनाव में थे। अप्रैल 2020 में ही वह रिटायर होने वाले थे। बेटे की खुदकुशी की खबर पाकर सदमे में मां की भी मौत हो गई।

एसपी मणिलाल पाटीदार ने पूरे मामले को संदिग्ध मान रहे हैं। उनका कहना है कि, कोतवाली स्थित आवास में दरोगा का शव फंदे पर लटकता मिला है। इनके पास कोतवाली मालखाने का चार्ज था। परिवार को सूचित किया जा चुका है। परिजनों के आने के बाद मामले की स्थिति और भी स्प्ष्ट होगी। 

उन्होंने बताया कि, शहर कोतवाली में कई वर्षों से तैनात उपनिरीक्षक रमाकांत सचान का तबादला महोबा से प्रयागराज हो गया था। रमाकांत को अप्रैल वर्ष 2020 में सेवानिवृत्त होना था। ऐसे में उनका ट्रांसफर कुछ दिनों पहले प्रयागराज कर दिया गया था। मृतक का परिवार मौजूदा समय में कानपुर देहात में रहता है। परिजनों ने कहा- मां की तबियत तीन दिनों से खराब थी। अवकाश मांगने पर भी नहीं दिया जा रहा था, जिसके कारण दरोगा रमाकांत तनाव में थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना