ललितपुर / गोविंद सागर बांध के साइफन चले; डिस्चार्ज हुआ 36 हजार क्यूसेक पानी, कई मुहल्ले जलमग्न



बांध के किनारे से लोगों को हटाता पुलिसकर्मी। बांध के किनारे से लोगों को हटाता पुलिसकर्मी।
X
बांध के किनारे से लोगों को हटाता पुलिसकर्मी।बांध के किनारे से लोगों को हटाता पुलिसकर्मी।

  • देश के कुछ बांधों में ही है साइफन प्रणाली
  • बाढ़ प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया
  • एक व्यक्ति की गड्‌ढे में गिरकर मौत

Dainik Bhaskar

Aug 16, 2019, 03:47 PM IST

ललितपुर.दो दिनों से हो रही बारिश के चलते शहर के गोविंद सागर बांध के स्वचालिक साइफन चालू होने से करीब 36 हजार क्यूसेक पानी निकल गया। बांध के गेट खोलकर भी पानी निकाला जा रहा है, इससे शहर कई कई मुहल्ले जलमग्न हो गए हैं। बाढ़ प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। गोविंद सागर बांध के अलावा देश के करीब 6 बांधों में ही साइफन प्रणाली है।

 

शहर के मोहल्ला डोडाघाट, लक्ष्मीपुरा, गोविंदनगर, नदीपुरा सहित कई इलाकों में जलभराव हैं। ग्रामीणों क्षेत्रों में कस्बा पाली, धौर्रा, भोंता, सरखडी आदि गांवों में भी जलभराव है। लोगों के घरों में पानी भर गया। बाढ़ पीड़ितों को विद्यालयों, धर्मशाला में प्रशासन द्वारा ठहराया गया है। उनके खाने पीने की व्यवस्था की गई है। 

नगर क्षेत्र में स्थित गोविंद सागर बांध देश का पहला ऐसा बांध है, जिसमें साइफन प्रणाली लगाई गई थी। गुलाम भारत में अंग्रेजों द्वारा बनाए गए इस बांध में लगातार पानी और हवा के दबाव के चलते साइफन स्वत: स्टार्ट हो जाते हैं और बांध का पानी एक लेबल तक निकालकर बंद हो जाते हैं। गोविंद सागर बांध के बाद यह प्रणाली भाखड़ा नागल बांध, नागार्जुन बांध में बनाई गई थी।

 

गड्ढे में डूबकर किसान की मौत
कस्बा पाली के मोहल्ला कुरयाना निवासी 22 वर्षीय विष्णु पुत्र रामचरन गुरुवार शाम अपने खेत पर गया हुआ था। जहां वह बाढ़ के पानी से भरे गड्ढे में गिरकर डूब गया। स्थानीय लोगों ने उसे बाहर निकाला। परिजन उसे उपचार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ले गए। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना