उप्र / बांदा में पराली जलाने पर 15 किसानों पर एफआईआर, सीएम योगी ने तलब किया था ब्यौरा

प्रतीकात्मक। प्रतीकात्मक।
X
प्रतीकात्मक।प्रतीकात्मक।

  • बीते सोमवार को सीएम योगी ने बांदा समेत 26 जिलों के डीएम व एसपी को लिखा था पत्र
  • पूछा था- अब तक पराली जलाने वालों पर क्या हुई कार्रवाई?
  • सुप्रीम कोर्ट का दिया गया था हवाला, उप कृषि निदेशक बोले- आरोपियों की गिरफ्तारी भी होगी

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 01:19 PM IST

बांदा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त रुख के बाद बांदा में पराली जलाने वालों की शामत आ गई है। यहां मंगलवार को प्रशासन ने 15 किसानों पर केस दर्ज कराया है। पुलिस अब किसानों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है। सीएम योगी ने सोमवार को 26 जिलों के डीएम-एसपी को पत्र भेजकर पूछा था- पराली जलाने वालों पर अब तक क्या कार्रवाई की है? इस सूची में बांदा जिला भी शामिल था। यहां अब तक 44 किसानों द्वारा पराली जलाने की शिकायतें मिली हैं। जिन पर कार्रवाई के लिए उन्हें चिन्हित कर लिया गया है।

यह कार्रवाई बांदा में कृषि एवं राजस्व विभाग की सूचना पर की गई है। दूसरी ओर पराली जलाने वाले किसानों का कहना है- उनके पास पराली जलाने के अतिरिक्त कोई दूसरा विकल्प नहीं है। इसलिए वे मजबूरी में पराली जला रहे हैं। 

उप कृषि निदेशक एके सिंह ने कहा- पराली जलाने से खेत की उर्वरा शक्ति नष्ट होती है। प्रदूषण होता है। ऐसा करने वाले किसानों के खिलाफ कार्रवाई करके जुर्माना वसूला जाएगा। अपर पुलिस अधीक्षक एलबीके पाल ने बताया कि तहरीर मिलने पर अभी और रिपोर्ट दर्ज होंगी। पराली जलाने वालों की गिरफ्तारी भी की जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट का आदेश
इसमें कोर्ट ने कहा था- 'अब समय आ गया है कि राज्य सरकारें यह बताएं कि वायु प्रदूषण से प्रभावितों को मुआवजा क्यों न दिया जाए? अंतत: राज्य प्रशासन के जरिए चलता है, इसलिए अपने दायित्वों के निर्वहन में विफल रहने वाली मशीनरी की जिम्मेदारी क्यों न तय की जाए?' इसके बाद सीएम योगी ने डीएम-एसपी को कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना