--Advertisement--

उन्नाव: 40 लोगों के बाद 29 और लोग HIV पॉजिटिव, झोलाछाप डॉक्टर अरेस्ट

बताया जा रहा है कि ये सभी मरीज उन 3 गांवों के लोग हैं जहां झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा इलाज को प्राथमिकता दी जाती है।

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 08:28 AM IST
पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है।

उन्नाव. जिले में 29 और लोगों HIV पॉजिटिव पाए गए हैं। इससे पहले मंगलवार को 40 लोगों के HIV पॉजिटिव पाए जाने का मामला सामने आया था। कानपुर के एआरटी सेंटर में अब तक इलाज के लिए 69 मरीजों को रजिस्ट्रेशन कराया गया है, इनमें 6 बच्चे भी शामिल हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी मरीज उन 3 गांवों के लोग हैं जहां झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा इलाज को प्राथमिकता दी जाती है। वहीं, बुधवार को कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर राजेश को बांगरमऊ थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया है। ग्रामीणों का आरोप है कि झोलाछाप डॉक्टर ने एक ही इंजेक्शन का बार-बार इस्तेमाल करने के कारण एचआईवी पॉजिटिव हुए हैं।

डॉक्टर ने कबूली बात

-सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, गिरफ्तार डॉक्टर ने इंजेक्शन लगाने की बात कबूल की है। वहीं, बताया जा रहा है कि उसके पास कोई मेडिकल डिग्री नहीं है।

-झोलाझाप डॉक्टर ने एक ही इंजेक्शन कई लोगों को लगाया, जिसकी वजह से इतनी बड़ी संख्या में लोग HIV पॉजिटिव पाए गए हैं।

लोगों में डर

-स्थानीय लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। लोग काफी डरे हुए हैं और असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। जैसे-जैसे लोगों के टेस्ट पॉजिटिव आ रहे हैं लोगों में घबराहट बढ़ती जा रही है। लोगों ने मांग की है कि पूरे गांव के हर व्यक्ति का एचआईवी टेस्ट करवाया जाए और संक्रमित पाए जाने पर उनका इलाज करवाया जाए।

-मामले में सरकार एक्शन में आ गई है। बुधवार को उन्नाव के बांगरमऊ के प्रेमगंज मोहल्ले में यूपी एड्स व नार्को टीम ने एचआईवी प्रभवित इस इलाके में जांच करने पहुंची।

-जांच करने पहुंची टीम की एक सदस्य डॉ. प्रियंका ने बताया कि कैंप लगाकर लोगों को जागरुक किया जाएगा।

कैसे हुआ मामले का खुलासा?

-दरअसल, नवंबर 2017 में बांगरमऊ तहसील में एक एनजीओ के द्वारा कैंप लगाया गया। जिसमें HIV की बात सामने आई, बाद में जिला अस्पताल भेज इस बात की पुष्टि करवाई गई। बांगरमऊ के कांउसलर सुनील ने बताया, 40 लोग जांच में एचआईवी पॉजिटिव पाये गए हैं। यदि सही तरीके से परीक्षण किया जाए तो कम से कम 500 मामले सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि यह कहा जा रहा है कि यहां के लोगों ने झोलाछाप डॉक्टर से इलाज कराया था। उसने सभी मरीजों के लिए एक ही इंजेक्शन का उपयोग किया था।
-वहीं, मेडिकल अधीक्षक, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्रमोद कुमार ने कहा, "हमने स्वास्थ्य कैंपों का आयोजन किया था। जहां इन मामलों की पुष्टि की गई है। हमें आदेश प्राप्त हुए हैं और हमने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। केंद्र सरकार की ओर से भी इस मामले की जांच के लिए उन्नाव में एक टीम भेजी गई है। जो पूरे मामले की जानकारी ले रही है।

स्वास्थ्य मंत्री ने दिए जांच के आदेश

-उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि एक कैंप में लोगों की जांच के कारण इस प्रकार का खुलासा हुआ। हम इस मामले की जांच कर रहे हैं।

हेल्थ कैंप में HIV पॉजिटिव के मामले सामने आए थे। फाइल हेल्थ कैंप में HIV पॉजिटिव के मामले सामने आए थे। फाइल
X
पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है।पुलिस ने आरोपी झोलाछाप डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है।
हेल्थ कैंप में HIV पॉजिटिव के मामले सामने आए थे। फाइलहेल्थ कैंप में HIV पॉजिटिव के मामले सामने आए थे। फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..