--Advertisement--

बचपन का शौक बना जूनून, अब इस 1 रुपए की चीज से बनाना चाहता है वर्ल्ड रिकॉर्ड

आलोक के कलेक्शन में 1 लाख 10 हजार माचिस की डिब्बियां हैं।

Danik Bhaskar | Dec 31, 2017, 12:23 PM IST
1982 से ये कलेक्शन बना रहे हैं आलोक मलहोत्रा। 1982 से ये कलेक्शन बना रहे हैं आलोक मलहोत्रा।

कानपुर. अक्सर आपने सुना होगा लोग अपने शौक के लिए क्या कुछ नहीं करते। शौक को पूरा करने के लिए किसी भी हद से गुजर जाते हैं। ऐसे ही एक शख्स हैं आलोक मलहोत्रा, जिन्हें माचिस की डिब्बियों से खास तरह का लगाव है। इसके चलते इन्होंने देश-विदेश की माचिस की डिब्बियों को इक्ट्ठा कर एक अनोखा कलेक्शन बनाया है। सड़क से उठा लाते थे माचिस की डिब्बी...

शहर के बिरहाना रोड के रहने वाले आलोक ने DainikBhaskar.com से खास बातचीत में बताया कि उन्हें ये शौक बचपन से है। बचपन में जब घर पर माचिस आती थी वो उसे खाली करके फटाफट खेलने लग जाते या फिर रास्ते में कभी माचिस की डिब्बी मिलती तो वो उठाकर घर लाते थे और रेलगाड़ी बनाकर उसके साथ घंटों खेलते रहते थे।

वर्ल्ड रिकॉर्ड के पीछे पड़े

वहीं, बढ़ती उम्र के साथ आलोक का शौक तो नहीं बदला, लेकिन माचिस की डिब्बी को खेलने की बजाए वो उसको इक्ट्ठा करके वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के पीछे जुट गए। अब स्थिति ये है कि आलोक के पास 90 देशों के माचिस के डिब्बों का कलेक्शन है।

ऐसा है कलेक्शन

- 40 साल के आलोक मलहोत्रा बिरहाना रोड पर अपनी पत्नी के साथ रहते हैं और एक ऐड एजेंसी चलाते हैं।
- आलोक ने बताया कि मेरे पास बर्ड्स और एनिमल्स की डिजाइन वाले 4 हजार माचिस के डिब्बे हैं।
- अलग-अलग राशिफल की भी माचिस की डिब्बियां हैं।

35 सालों से बना रहे कलेक्शन

- 1982 से शुरू किया ये कलेक्शन बनाना।
- इस कलेक्शन को बनाने के लिए सोशल मीडिया पर मेरा एक ग्रुप भी है।
- इस ग्रुप में देश-विदेश के हजारों लोग मेरे साथ जुड़े और मुझे सपोर्ट किया।
- पूरी दुनिया के कोने-कोन से लोग मुझे माचिस की डिब्बियां भेजते हैं।
- विदेशों से आई माचिस के कोरियर के लिए 2-3 हजार रुपए भी चुकाने पड़ते हैं।

12 इंच से लेकर 1.25cm तक है साइज

- सबसे बड़ी माचिस की डिब्बी अमेरिका की है, जो 13 इंच की है और इसकी किमत करीब 10 डॉलर है।
- सबसे छोटी माचिस चेकोस्लोवाकिया की है। ये 1.25 cm की है।
- आलोक बताते हैं कि वो कभी कहीं घूमने जाते हैं तो माचिस की डिब्बियों के अलावा कुछ भी नहीं खरीदते।
- कुल मिलाकर एक लाख 10 हजार माचिस के डिब्बे हैं।

3 अवार्ड मिले
- तीन कॉम्पटीशन जीतकर अवॉर्ड भी हासिल कर चुके हैं- भारत वर्ल्ड, इंडिया स्टार और रियल वर्ल्ड।
- आलोक ने बताया कि वो अपने इस शौक को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज कराना चाहते हैं।
- उनका मानना है कि जल्द ही वो इस मुकाम को हासिल करेंगे और दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाएंगे।

कलेक्शन में 1 लाख 10 हजार माचिस के डिब्बे। कलेक्शन में 1 लाख 10 हजार माचिस के डिब्बे।
90 देशों से इक्ट्ठा किए माचिस के डिब्बे। 90 देशों से इक्ट्ठा किए माचिस के डिब्बे।
बर्ड्स और एनिमल्स की डिजाइन वाले 4 हजार माचिस के डिब्बे। बर्ड्स और एनिमल्स की डिजाइन वाले 4 हजार माचिस के डिब्बे।