Hindi News »Uttar Pradesh »Kanpur» BSF Jawan Martyred In Naxalite Attack In Mizoram

6 दिन बाद घर आने वाला था ये जवान, फोन पर मिली मां को ऐसी सूचना

जवान अरविन्द हेडकांस्टेबल के पद पर कार्यरत थे।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 29, 2018, 12:42 PM IST

    • शहीद जवान अरविंद कुमार विमल। (फाइल)

      उन्नाव. पश्चिम बंगाल के कूच विहार में बुधवार को हुए नक्सली हमले में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया। जानकारी के अनुसार शहीद जवान अरविन्द विमल बुधवार रात 2 बजे खाना खाकर ड्यूटी पर जा रहे थे। इस दौरान रास्ते में पहले से घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने उनपर हमला कर दिया। जिसमें वह शहीद हो गए। जवान अरविन्द हेडकांस्टेबल के पद पर कार्यरत थे। जवान के शहीद होने की खबर मिलते ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। अगले महीने होने वाली थी शादी...

      - शहीद जवान अरविंद विमल (26) पुत्र सुरेश विमल, उन्नाव के आसीवन थाना क्षेत्र के रसूलाबाद के रहने वाले थे।
      - अरविंद के 5 भाइयों में तीसरे नंबर पर थे। जिनमें से 2 की शादी हो गई थी जबकि शहीद जवान की शादी अगले महीने में होने वाली थी।
      - साल 2011 में वह बीएसएफ में भर्ती हुए थे और त्तकाल में पश्चिम बंगाल के कूच विहार मे हेडकांस्टेबल के पद पर कार्यरत थे।
      - जानकारी के अनुसार, बुधवार रात 2 बजे खाना खाने के बाद वह ड्यूटी पर जा रहा था। इसी बीच नक्सलियों ने उनपर हमला कर दिया और मुठभेड़ में अरविंद शहीद हो गए।
      - वहीं, देर रात जब गश्त पर निकले गश्ती दल की निगाह उनपर पड़ी तो देखा की अरविंद को गोली लगी थी और वह शहीद हो गए थे।

      बेटे की शहीद होने की खबर सुनते ही मां का हुआये हाल...

    • 6 दिन बाद घर आने वाला था ये जवान, फोन पर मिली मां को ऐसी सूचना
      +2और स्लाइड देखें

      - गुरुवार सुबह 6 बजे अरविंद की शहीद होने के सूचना मिलते ही घर में कोहराम मच गया।

      - एक तरफ जहां मां रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी तो दूसरे तरफ भाईयों को कुछ बोला नहीं जा रहा था।

      - अरविंद की शहीद होने की सूचना मिलते ही उनके घर पर पूरा गांव इकट्ठा हो गया।

      - बताया जा रहा है कि 20 साल पहले उनके पिता सुरेश कुमार कहीं चले गए थे और तब से आज तक लापता हैं।

      - शहीद अरविंद की शादी तय हो गई थी और वह 1 फरवरी को घर आने वाले थे। उनके आने की खुशी में मां ने घर पर जागरण का प्रोग्राम रखा था। लेकिन उनके शहीद होने की खबर मिलते ही पूरा परिवार गम में डूबा गया।


      6 दिन बाद घर आने वाला था जवान...

    • 6 दिन बाद घर आने वाला था ये जवान, फोन पर मिली मां को ऐसी सूचना
      +2और स्लाइड देखें

      - शहीद के भाई शेखर विमल ने बताया कि सुबह 6 बजे मां के पास फोन आया कि भाई के साथ हादसा हो गया। इतना सुनते ही मां के हाथ से फोन छुट गया और वह रोने लगी। इसके बाद फोन मैंने लिया तो उन्होंने पूछा कि आप कौन बोल रहे हैं। जिसपर मैंने बताया कि मैं उनका भाई बोल रहा तो उन्होंने कहा कि अरविंद आज हमारे बीच नहीं रहें। रात में हुई फायरिंग को दौरान वह शहीद हो गए।

      - अभी कल ही तो मां से भाई की बात हुई थी। वह 1 फरवरी को घर भी आने वाला था। भाई की फरवरी में शादी भी होने वाली थी। लड़की वाले बोल रहे थे उसे बुला लो एक नजर लड़के को देख लें। अब वह इस हाल में आएगा नहीं सोचा था।

      - वहीं, छोटे भाई पवन विमल ने बताया कि भइया पश्चिम बंगाल के कूच बिहार में तैनात थे। आज सुबह पता चला की भाई बॉर्डर पर शहीद हो गए। इससे पहले वह दीपावली पर घर आए थे। उसके जूनून और ज्जबे को देख कर मैं भी फौज में जाना चाहता था।

    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Kanpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: BSF Jawan Martyred In Naxalite Attack In Mizoram
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Kanpur

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×