--Advertisement--

होमवर्क की ऐसी सजा-40 बच्चों से मैडम ने मरवाए थप्पड़, ये हुआ बच्चे का हाल

कानपुर के यूनाइटेड पब्लिक स्कूल से स्टूडेंट को टॉर्चर करने का मामला सामने आया है।

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 06:54 PM IST

कानपुर. यहां के एक नामी प्राइवेट स्कूल में क्लास थर्ड के बच्चे को टीचर द्वारा टॉर्चर किए जाने का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि टीचर ने होम वर्क ना पूरा होने पर बच्चे को पहले पीटा फिर क्लास में मौजूद 40 अन्य स्टूडेंट्स से भी 2-2 थप्पड़ मरवाए। इसके बाद जब बच्चे ने घर पहुंचकर पूरी आपबीती सुनाई तो परिजनों के होश उड़ गए। फिर परिजनों ने स्कूल पहुंचकर जमकर हंगामा किया। क्लास थर्ड में पढ़ने वाले स्टूडेंट को ऐसी पनिशमेंट...

मामला, सिविल लाइंस स्थित यूनाइटेड पब्लिक स्कूल का है। यहां, क्लास थर्ड में पढ़ने वाला ग्वालटोली निवासी युवराज अवस्थी शुक्रवार को स्कूल पहुंचा तो उसका होम वर्क पूरा नहीं था। इस पर उसकी साइंस टीचर जहीन सुल्तान काफी नाराज हो गई।

'40 स्टूडेंट्स से मरवाए 2-2 थप्पड़'

बच्चे के परिजनों के मुताबिक, पहले तो टीचर ने युवराज को खुद ही पीटा और जब इससे भी उनका मन नहीं भरा तो क्लास में मौजूद 40 अन्य स्टूडेंट्स से भी युवराज को 2-2 थप्पड़ लगवाए।

आगे की स्लाइड्स में जानें टीचर की पिटाई के बाद क्या हुआ बच्चे का हाल...

'घर आया तो चेहरे पर थी सूजन'

 

युवराज की दादी ने बताया कि "जब युवराज घर पहुंचा तो वो काफी सहमा हुआ था और उसके चेहरे पर भी सूजन थी। ये देख हमने उससे पूछताछ की तो उसने सारी दास्तां सुनाई।"

'पूरी क्लास के सामने उतरवाए थे कपड़े'

 

युवराज ने बताया कि, "इससे पहले भी टीचर मुझे टॉर्चर कर चुकी है। विंटर वेकेशन से पहले टीचर ने पूरी क्लास के सामने मेरे कपड़े उतरवाकर पनिशमेंट दी थी। लेकिन, मैंने घर पर ये बात नहीं बताई थी।"

'ट्यूशन पढ़ने का दबाव बना रही थी टीचर'

 

युवराज के पिता उदय अवस्थी के मुताबिक, "जहीन पहले से ही बच्चे पर ट्यूशन पढ़ने का दबाव बना रही थी, लेकिन हमने ट्यूशन के लिए दूसरा टीचर रख लिया। इस बात से नाराज जहीन बच्चे को टार्चर करने लगी।"

टीचर ने ऐसे दी सफाई

 

वहीं, आरोपी टीचर जहीन ने बताया कि "मैंने युवराज को मारा था और दो अन्य बच्चों ने सिर्फ उसे टच किया था। युवराज काफी दिनों से होम वर्क नहीं कर रहा था इसलिए मैंने उसे पनिशमेंट दी थी। मुझे लगा शायद इससे युवराज को गलती का एहसास हो और वो अच्छे नंबरों से पास हो सके।"

'पैरेंट्स हमें नहीं देते हैं सूचना'

 

उधर, स्कूल प्रिंसिपल शैली धीर ने कहा, "अगर हमारे टीचर्स द्वारा ट्यूशन पढ़ाने का दबाव बनाया जाता है तो पैरेंट्स आकर मुझे बताएं। वो हमारे पास तो आते नहीं। यदि हमें बताएंगे नहीं तो हम टीचर्स के खिलाफ एक्शन कैसे लेंगे।" 

 

'टीचर को स्कूल से निकाल दिया'

 

प्रिंसिपल ने बताया कि "युवराज के पैरेंट्स ने मुझे इसकी जानकारी दी है। टीचर्स को ऐसा नहीं करना चाहिए। इस तरह से बच्चों को पनिश करना गलत है। हमने आरोपी टीचर को स्कूल से निकाल दिया है।"