--Advertisement--

उन्नाव: आईकैंप में टॉर्च की रोशनी में आंख का ऑपरेशन, हेल्थ मिनिस्टर ने CMO को हटाया

इस कैंप को एक एनजीओ ने लगाया था। 32 की संख्या में लोगों ने ऑपरेशन कराया था।

Danik Bhaskar | Dec 26, 2017, 03:57 PM IST
उन्नाव के सरकारी हॉस्पिटल में एक एनजीओ ने कैंप लगाया था। उन्नाव के सरकारी हॉस्पिटल में एक एनजीओ ने कैंप लगाया था।

उन्नाव. यूपी के सरकारी हॉस्पिटल में मरीजों के इलाज में लापरवाही का मामला सामने आया है। उन्नाव जिले के नवाबगंज स्वास्थ्य केंद्र में सोमवार को एनजीओ की ओर से आंखों के ऑपरेशन के लिए कैंप लगाया गया। कुछ डॉक्टर्स मरीजों का ऑपरेशन कर रहे थे, तभी बिजली चली गई। इसके बाद टॉर्च की रोशनी में 32 मरीजों का ऑपरेशन हुआ। इतना ही नहीं बाद में उन्हें कड़ाके की ठंड में जमीन पर लिटाया गया। इस मामले में योगी सरकार के हेल्थ मिनिस्टर ने सीएमओ (चीफ मेडिकल अफसर) को सस्पेंड कर दिया है।

ऑपरेशन के बाद मरीजों को खाना लाने भेजा

- जानकारी के मुताबिक, स्वास्थ केंद्र में लगे कैंप में बड़ी संख्या में बुजुर्ग चेकअप के लिए पहुंचे थे। इसके बाद सोमवार शाम को मरीजों का ऑपरेशन शुरू हुआ। इसी दौरान अचानक बिजली गुल हो गई। काफी देर तक जनरेटर का इंतजाम नहीं हुआ तो डॉक्टरों ने टॉर्च की रोशनी में ही 32 मरीजों का ऑपरेशन कर दिया।

- आरोप है कि ऑपरेशन के बाद मरीजों को जमीन पर लिटा दिया गया। कुछ मरीजों को खुद नाश्ता और खाना लाने के लिए भेजा गया।

हॉस्पिटल में नहीं थे ऑपरेशन के इंतजाम

- यूपी के हेल्थ मिनिस्टर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कार्रवाई करते हुए उन्नाव के सीएमओ को सस्पेंड कर दिया है। मंत्री ने बताया कि कानपुर के एनजीओ ने आई चेकअप कैंप लगाया था।

- प्रभारी मेडिकल अफसर देवेश दास ने बताया कि नवाबगंज स्वास्थ्य केंद्र में कोई ऑप्टमिक सर्जन नहीं है। ना ही आंखों के ऑपरेशन के इंतजाम हैं। कैसे यहां ऑपरेशन और कैंप लगाने की इजाजत मिली, इसकी जांच की जा रही है।

Video: टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन के बाद मरीजों को जमीन पर लिटाया गया... Video: टॉर्च की रोशनी में ऑपरेशन के बाद मरीजों को जमीन पर लिटाया गया...