--Advertisement--

इस IIT में ऐसे सप्लाई होता था Drugs, गर्ल्स इस बात का उठाती थी फायदा

देश को बेहतरीन इंजीनियर देने वाले कानपुर IIT में स्टूडेंट्स द्वारा ड्रग्स लेने का मामला सामने आया है।

Danik Bhaskar | Dec 13, 2017, 10:00 PM IST

कानपुर. देश को बेहतरीन इंजीनियर देने वाले कानपुर IIT में स्टूडेंट्स द्वारा ड्रग्स लेने का मामला सामने आया है। इसकी भनक जब IIT प्रशासन को हुई, तो उन्होंने हॉस्टल्स की चेकिंग की, जिसमे छात्रों के रूम से ड्रग्स बरामद हुई। DainikBhaskar.com आपको बताने जा रहा है कि आख‍िर कैसे कानुपर IIT में ड्रग्स पहुंचता है। कॉलेज से जुड़े कुछ लोगों ने नाम न छापने की शर्त पर ये पूरा खेल बताया।

 

 

आगे की स्लाइड्स में इन्फोग्राफिक्स में जानें आख‍िर कैसे IIT के स्टूडेंट्स तक पहुंचता था ड्रग्स...

 

 

कॉलेज के इतने स्टूडेंट्स को किया गया आइडेंट‍िफाई

- IIT डायरेक्टर मनिन्द्र अग्रवाल के मुताबिक, पिछले कुछ समय से हमारे वॉर्डन, डीन और सिक्युरिटी सेक्शन के लोग रिपोर्ट कर रहे थे कि ड्रग्स लेने वाले स्टूडेंट्स की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पिछले 2 महीनों में कई ऐसे केस सामने भी आए, जिसमें हॉस्टल में रहने वाले स्टूडेंट्स ड्रग्स लेते पकड़े गए।

- हमें ड्रग्स के सप्लायरों के बारे में पता चला है। कुछ लोग आसपास के इलाकों में रहकर कैम्पस में ड्रग्स की सप्लाई करते हैं। इसके खि‍लाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। साथ ही, छात्रों के बीच अवेयरनेस कैम्पेन भी चलाया जाएग।

- जो छात्र ड्रग्स के आदी हो गए हैं, उनकी साइकोलॉजिकल काउंसिलिंग कराई जाएगी। इस काम में उनके पेरेंट्स की भी मदद ली जाएगी।

- ड्रग्स लेने वाले करीब 40 स्टूडेंट्स को आइडेंट‍िफाई भी कर लिया गया है।

- डीएम सुरेन्द्र सिंह के मुताबिक, SSP ने आईआईटी प्रशासन के साथ बैठक की है। IIT में इस नशे का सामान सप्लाई करने वालों को भी आइडेंट‍िफाई क‍िया जा रहा है। एलआईयू और पुलिस की टीमों को सक्रिय कर दिया गया है।

 

 

ऐसे होता था कानपुर IIT में ड्रग्स का खेल

- मामला सामने आने के बाद कानपुर आईआईटी के गार्ड, स्टूडेंट्स और अन्य लोगों से बात की गई। कुछ ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पहले की तुलना अब ड्रग्स लेने वाले स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ गई है।
- IIT के मेन गेट पर तो चेकिंग होती है, लेकिन पीछे वाले गेट से कोई भी कुछ भी सामान लेने कैंपस में आ सकता है।
- इसी बात का लोग फायदा उठाकर स्टूडेंट्स तक ड्रग्स पहुंचाते थे। इसमें IIT से जुड़े कुछ लोगों का भी हाथ है। सिक्युरिटी गार्ड से लेकर धोबी तक सब इस खेल में शामिल हैं।