Hindi News »Uttar Pradesh »Kanpur» Making Of Gajak Sweet In Kanpur

ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO

कानपुर के हुलागंज की मंडी में गजक बनाने का पुश्तैनी काफी सालों से चलता आ रहा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 06, 2018, 02:29 PM IST

    • कानपुर गजक बनाने का गढ़ भी कहा जाता है।

      कानपुर. सर्दियां में यहां स्वाद के दीवानों के लिए कुछ खास रहता है। ऐसा में सर्दी से बचने के लिए लोगों को गजक की याद आती है, क्योंकि यह सर्दियों की मेवा कही जाती है। इस समय मार्केट में गजक की कई वैरायटी आ गई हैं, जिनके स्वाद का लोग जमकर लुत्फ उठाते हैं। कानपुर के हुलागंज की मंडी में गजक बनाने का पुश्तैनी काम काफी सालों से चलता आ रहा है। इसकी सप्लाई भारत के कई राज्यों में की जाती है। एेसे बनाई जाती है गजक...

      - दुकानदार पिंटू गुप्ता ने बताया की उनकी दुकान बाप-दादाओं के समय से चली आ रही है। यहां गजक का काम पुश्तैनी से करते चले आ रहे हैं।
      - गजक बनाने के लिए पहले तिल को शक्कर की चासनी में भिगोकर उसे कढ़ाई में पकाया जाता है। फिर उसे कूटा जाता है, उसके बाद गजक गुथा हुआ आटा नुमा आकार में परिवर्तित हो जाता है।
      - फिर उसके बाद पैरलल कर कई भाग किए जाते हैं। काटने वाले औजार से उन स्लाइसों को अलग कर दिया जाता है। इस तरह गजक बनकर तैयार हो जाती है।
      - इसके बाद उसकी पैकिंग की जाती है। कई और वैरायटी के हिसाब से गजक को अलग-अलग शेप दिए जाते हैं, क्योंकि मार्केट में लोगों की डिमांड कुछ हटकर भी होती है।
      - उन्होंने बताया कि ये हमारा पुश्तैनी काम है और कानपुर गजक बनाने का गड़ भी है। सर्दियों में गजक के कई फायदे है, जिससे शरीर तरोताज़ा और गर्म बना रहता है। यह सर्दियों के लिए मेवा है।
      - हमारे यहां गजक की 17 वैरायटी तैयार की जाती हैं। जैसे तिल लट्ट, मूंगफली लट्ठा, गुड़ पट्टी, रोल गजक, शक्कर गजक और चिक्की जैसी कई प्रकार की गजक तैयार की जाती है। वही, इनकी सप्लाई आल इंडिया में की जाती है।

      गजक बनाने की विधि
      - गजक को तैयार करने के लिए गुड़ और दामन लेते है। शक्कर का जिससे इसकी चाशनी बनाते है, चासनी जब बन जाती है फिर इसे पट्टी में डालते हैं।
      - पट्टी जब सूखती है फिर उसे चढ़ाते हैं एक बरतन में डालकर फेंटते है।
      - इसके बाद इसमें तिल्ली मिलाकर इसे कूटते हैं। कुटाई हो जाने के बाद उसे कई भागों में अलग कर काटते हैं, एसके बाद गजक बनकर तैयार हो जाती है।

    • ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO
      +5और स्लाइड देखें
      सर्दियों में गजक के कई फायदे है, जिससे शरीर तरोताज़ा और गर्म बना रहता है।
    • ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO
      +5और स्लाइड देखें
      फिर उसे कूटा जाता है, उसके बाद गजक को गुथा हुआ आटा नुमा आकार में परिवर्तित हो जाता है।
    • ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO
      +5और स्लाइड देखें
      गजक बनाने के लिए पहले तिल को शक्कर की चासनी में भिगोकर उसे कढ़ाई में पकाया जाता है।
    • ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO
      +5और स्लाइड देखें
      इस समय मार्केट में गजक की कई वैरायटियां आ गई हैं, जिनके स्वाद का लोग जमकर लुत्फ उठाते हैं।
    • ऐसे बनती है कानपुर की फेमस मिठाई 'गजक', आप भी कर सकते हैं ट्राई-VIDEO
      +5और स्लाइड देखें
      काटने वाले औजार से उन स्लाइसों को अलग कर दिया जाता है।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Kanpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Making Of Gajak Sweet In Kanpur
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From Kanpur

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×