--Advertisement--

जब असली पुलिस के सामने ही पीड़ित को पीटने लगा फर्जी इंस्पेक्टर,फिर हुआ ये

गंगा घाट पुलिस की मदद से फर्जी इंस्पेक्टर को पकड़कर थाने ले आई।

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 01:23 PM IST
फर्जी इंस्पेक्टर ने दारोगा के सामने पीड़ित को ही पीट दिया। फर्जी इंस्पेक्टर ने दारोगा के सामने पीड़ित को ही पीट दिया।

कानपुर. यूपी के कानपुर से एक वीडियो सामने आया है। जिसमें रियल दारोगा के सामने ही एक फर्जी इंस्पेक्टर वर्दी पहने पीड़ित को ही पीट रहा है। वहीं, दारोगा भी उस फर्जी इंस्पेक्टर को पहचान नहीं पाया। पीड़ित को पीटने के बाद वह बाइक से गायब हो जाता है। पुलिस ने मामले की छानबीन के बाद फर्जी इंस्पेक्टर को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही, उसके पास से पुलिस की वर्दी, नेम प्लेट, परिचय पत्र, वाकी-टाकी और एक पिस्टल भी बरामद कर ली है। आगे पढ़िए क्या है पूरा मामला...


- फर्जी इंस्पेक्टर अजय सिंह मूल रूप से आगरा का रहने वाला है। वह उन्नाव के शुक्लागंज में किराए पर रहता था और खुद को गंगाघाट थाने का थानेदार बताता था।
- जानकारी के मुताबिक, बुधवार को बाबू पुरवा थाना क्षेत्र निवासी बगाही के रतनीस अपने कार से जा रहे थे।
- इस दौरान रास्ते में वह कार खड़ी करके चाय पीने चले गए। तभी एक लड़का आया और उनकी कार से बैग निकाल कर भागने लगा। जिसे रतनीस ने दौड़कर पकड़ लिया और इसकी सूचना 100 नंबर पुलिस को दी।
- सूचना मिलते ही मौके पर बगाही थाना के दारोगा मुरलीधरन पाण्डेय पहुंच गए। जिसके बाद पीड़ित ने चोर को पुलिस के हवाले कर दिया।
- तभी फर्जी इंस्पेक्टर अजय सिंह अपनी बाइक से पहुंच गया और आरोपी को छोड़कर पीड़ित रतनीस को ही जमकर पीटने लगा। फिर उस पीटने के बाद बाइक से भाग गया।
- इस दौरान वहां मौजूद पुलिसकर्मी भी फर्जी इंस्पेक्टर को पहचान नहीं पाए। इसके बाद दारोगा मुरलीधरन पाण्डेय ने उसके बाइक के नंबर से घर का पता निकाला। फिर उसे गंगा घाट पुलिस की मदद से पकड़कर थाने ले आई है।

फिल्मों से आया ये आइडिया
- फर्जी इंस्पेक्टर अजय सिंह ने बताया कि मैं पहले दरोगा की वर्दी पहन कर रौब गाठता था, लेकिन 8 महीने से इंस्पेक्टर की वर्दी पहन कर घूम रहा हूं।
- मेरी दो बेटियां हैं, उनकी परवरिश करने के लिए मैं फर्जी पुलिस बनकर वसूली कर रहा था। अक्सर फिल्मों में फर्जी दरोगा बनकर वसूली करते हैं, मैंने सोचा यही तरीका कमाने का ठीक है। इसलिए यह सब करने लगा।


क्या कहती है पुलिस
एसपी साउथ अशोक कुमार के मुताबिक, "एक शख्स पकड़ा गया है, जो वर्दी पहन कर वसूली करता था। बुधवार जो घटना हुई थी, वहां पर भी इस शख्स ने मारपीट की थी। फिलहाल, अभी इसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।"

फर्जी इंस्पेक्टर अजय सिंह मूल रूप से आगरा का रहने वाला है। फर्जी इंस्पेक्टर अजय सिंह मूल रूप से आगरा का रहने वाला है।
वहां मौजूद पुलिसकर्मी भी फर्जी इंस्पेक्टर को पहचान नहीं पाए। वहां मौजूद पुलिसकर्मी भी फर्जी इंस्पेक्टर को पहचान नहीं पाए।
दारोगा मुरलीधरन पाण्डेय ने उसके बाइक के नंबर से घर का पता निकाला। उसे गंगा घाट पुलिस की मदद से पकड़कर थाने ले आई है। दारोगा मुरलीधरन पाण्डेय ने उसके बाइक के नंबर से घर का पता निकाला। उसे गंगा घाट पुलिस की मदद से पकड़कर थाने ले आई है।
उसे गंगा घाट पुलिस की मदद से पकड़कर थाने ले आई है। उसे गंगा घाट पुलिस की मदद से पकड़कर थाने ले आई है।