--Advertisement--

संतों ने गंगा में बहाया 1100 लि. दूध, गरीबों को दान करने की बात पर दिया ये शर्मनाक जवाब

गंगा इस देश में सिर्फ एक नदी नहीं है। यह लोगों की आस्था का विषय है।

Dainik Bhaskar

Jan 02, 2018, 04:49 PM IST
गंगा में बहाया 1100 लिटर दूध। गंगा में बहाया 1100 लिटर दूध।

कानपुर. तमाम संगठन और संत गंगा प्रदूषण के नाम पर अपनी लोकप्रियता बढ़ाने में जुटे हैं। उन्हे ना तो गंगा से सरोकार है और ना ही आम आदमी से। दरअसल, यहां मंगलवार को गंगा अभिषेक के नाम पर संतों ने ग्यारह सौ लीटर दूध गंगा में बहा दिया। वहीं, जब उस दूध को बच्चों को देने के लिए कहा गया तो उन्होंने मानवता को शर्मशार करने वाला बयान दे डाला। अब चढ़ाएंगे सवा लाख लीटर दूध...

- गंगा प्रदूषण को रोकने के नाम पर एक संस्था ने गंगा में ग्यारह सौ लीटर दूध बहाने का कार्यक्रम बनाया। जिसमें शहर के कई गेरुआ वस्त्रधारी भी शामिल हुए।
- उन्होंने अपने हाथों से गंगा में दूध को बहाया और फोटों खिचवाएं। जब आयोजकों से गंगा में दूध बहाने का कारण पूछा गया तो उन्होंने कहा कि गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए एेसा किया है।
- उनका कहना है कि वह बच्चों की सेवा कभी भी कर सकते हैं, लेकिन कानपुर के घाटों में गंगा वापस लाने के लिए दूध बहाना जरूरी है।
- वहीं, जब एक संत से उस दुध को गरीब बच्चों को देने की बात कहीं गई तो वह भड़क गए। सन्यासी अरुण पूरी बेतुका बयान देने हुए कहा कि गंगा मैया के किनारे 40 लाख बच्चे पलते हैं। उनको दूध पिलाने से क्या होता, वह यूरिन और शौच में सारा दूध निकाल देते। हम लोग गंगा जी को स्वस्थ करने को दूध चढ़ा रहे है और अगले महीने सवा लाख लीटर दूध फिर चढ़ाएंगे।

इसमें शहर के कई गेरुआ वस्त्रधारी भी शामिल हुए। इसमें शहर के कई गेरुआ वस्त्रधारी भी शामिल हुए।
उन्होंने अपने हाथों से गंगा में दूध को बहाया और फोटों खिचवाएं। उन्होंने अपने हाथों से गंगा में दूध को बहाया और फोटों खिचवाएं।
saint waste 1100 litre milk in ganga in kanpur
सन्यासी अरुण पूरी ने कहा कि हम लोग गंगा जी को स्वस्थ करने को दूध चढ़ा रहे है और अगले महीने सवा लाख लीटर दूध फिर चढ़ाएंगे। सन्यासी अरुण पूरी ने कहा कि हम लोग गंगा जी को स्वस्थ करने को दूध चढ़ा रहे है और अगले महीने सवा लाख लीटर दूध फिर चढ़ाएंगे।
X
गंगा में बहाया 1100 लिटर दूध।गंगा में बहाया 1100 लिटर दूध।
इसमें शहर के कई गेरुआ वस्त्रधारी भी शामिल हुए।इसमें शहर के कई गेरुआ वस्त्रधारी भी शामिल हुए।
उन्होंने अपने हाथों से गंगा में दूध को बहाया और फोटों खिचवाएं।उन्होंने अपने हाथों से गंगा में दूध को बहाया और फोटों खिचवाएं।
saint waste 1100 litre milk in ganga in kanpur
सन्यासी अरुण पूरी ने कहा कि हम लोग गंगा जी को स्वस्थ करने को दूध चढ़ा रहे है और अगले महीने सवा लाख लीटर दूध फिर चढ़ाएंगे।सन्यासी अरुण पूरी ने कहा कि हम लोग गंगा जी को स्वस्थ करने को दूध चढ़ा रहे है और अगले महीने सवा लाख लीटर दूध फिर चढ़ाएंगे।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..