सियासत / अखिलेश का भाजपा पर निशाना; कहा- सभी भगवानों की जाति बता दें, हमारा काम आसान हो जाएगा



सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा- भाजपा की अब हवा निकल रही है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा- भाजपा की अब हवा निकल रही है।
X
सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा- भाजपा की अब हवा निकल रही है।सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा- भाजपा की अब हवा निकल रही है।

  • पांच राज्यों के हुए विधान सभा चुनावों में मिली हार पर अखिलेश ने भाजपा पर साधा निशाना
  • प्रसपा के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य ने भी भाजपा पर बोला हमला
  • कहा- धर्म की राजनीति करने वाली भाजपा को जनता ने करारा जवाब दिया

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2018, 07:12 PM IST

कानपुर. पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रदर्शन को लेकर विपक्षी पार्टियां हमलावर हैं। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि, इन विधानसभा चुनाव परिणाम को देखते हुए अबकी बार मोदी सरकार का नारा देने वाली पार्टी का अब नारा ही बदल गया है। भाजपा की अब हवा निकल रही है। वहीं, अखिलेश के चचेरे भाई व प्रगतिशील सपा लोहिया के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य यादव ने हिंदी भाषी राज्यों में धर्म की राजनीति करने वाली भाजपा को जनता ने करारा जवाब दिया है। 

 

सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्विट कर चुटकी ली है। उन्होंने लिखा है कि, अगर सभी भगवानों की जाति बता दें तो हमारा काम आसान हो जाएगा। हम अपनी ही जाति वाले भगवान से सब कुछ मांगेंगे। हम इधर-उधर कोई चीज क्यों मांगें। अब तो ये उन्हें खुद बताना होगा कि भगवान ने उन्हें क्या दिया है। 

 

सपा व अखिलेश हमारे प्रतिद्वंदी नहीं, वादाखिलाफी करने वाले से लड़ रहे हम
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य यादव ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा कि हिंदी भाषी राज्यों में भाजपा हिन्दू मुस्लिम को लड़ाकर एक दूसरे को बांटने की राजनीती कर रही है। जनता अब इन बातों को समझ चुकी है। यही वजह है कि जनता ने पांच राज्यों के चुनाव में इसका करार जवाब दिया है। आदित्य यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव हमारे प्रतिद्वांदी नहीं हैं। हमारे प्रतिद्वांदी वह लोग हैं, जिन्होंने किसानों ,नौजवानों और देश की जनता के साथ वादा खिलाफी की है। 

 

राष्ट्रीय महासचिव आदित्य एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए कानपुर आए थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि पांच साल पहले प्रधानमन्त्री ने जो वादे किए थे, उस पर वह खरे नहीं उतरे। वादा खिलाफी की वजह से यह चुनाव हारे हैं। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना