कानपुर / सीएए के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस की चेतावनी- 'धरने का चेहरा बने तो देशद्रोह की धाराओं में कार्रवाई होगी'

सीएए के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं।- फाइल फोटो सीएए के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं।- फाइल फोटो
X
सीएए के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं।- फाइल फोटोसीएए के विरोध में धरने पर बैठी महिलाएं।- फाइल फोटो

  • जिले के मोहम्मद अली पार्क, चमनगंज और बाबूपुरवा फूल पार्क में प्रदर्शन चल रहा
  • नोटिस जारी करने के बाद भी धरना समाप्त नहीं हुआ तो रासुका लगाई जाएगी

दैनिक भास्कर

Feb 08, 2020, 01:39 PM IST

कानपुर. शहर के मोहम्मद अली पार्क, चमनगंज और बाबूपुरवा फूल पार्क में सीएए के खिलाफ महीनेभर से चल रहे धरने को खत्म कराने के लिए पुलिस हर सख्त कदम उठाने के लिए तैयार है। पुलिस अधिकारियों का साफतौर पर कहना है कि यदि सीएए के विरोध में धरने का चेहरा बने और उपद्रवियों को पनाह देने का काम किया तो आरोपियों के खिलाफ भी रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी। 

शुक्रवार को डीआईजी अनंतदेव ने दो टूक कहा कि 80 लोगों को नोटिस जारी करने के बाद भी धरना खत्म न हुआ तो पुलिस देशद्रोह की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर उनकी गिरफ्तारी करेगी। कहा- मोहम्मद अली पार्क और फूल पार्क में धरने को बाहर से लोग आकर समर्थन करके उकसा रहे हैं। जहां पुरुषों की एंट्री बंद है, वहां राजनीतिक पार्टियों की सभा कराई जा रही है। धरने में आजादी के अलावा देश विरोधी नारेबाजी की जा रही है। लोग प्रदर्शन की आड़ में हिंसा का प्रयास कर रहे हैं।

धरने का समर्थन करने वाले और फंडिंग करने वालों पर भी होगी कार्रवाई 
ऐसे में प्रशासन अब धरने का समर्थन करने वाले, फंडिंग करने वाले और पर्दे के पीछे खड़े होने वालों पर राष्ट्रद्रोह की धारा में कार्रवाई करेगा। इसके अलावा हिंसा में फरार उपद्रवियों को पनाह देने वालों पर भी रासुका के तहत कार्रवाई कर जेल भेजा जाएगा।

डीआईजी ने बताया कि कलक्टरगंज श्वेता यादव, सीओ नजीराबाद गीतांजलि और एसडीएम लवि त्रिपाठी धरने में बैठी महिलाओं से धरना समाप्त करने का आग्रह लेकर गईं थीं। सीओ ने जब धरने पर बैठीं महिलाओं से सीएए और एनआरसी के बारे में पूछताछ की तो सब चुप हो गईं। महज धरने का प्रतिनिधित्व कर रहीं 5-6 महिलाएं ही नागरिकता संशोधन कानून के बारे में आधी अधूरी बात बता सकीं। 

उन महिलाओं को चिह्नित किया गया है जो महिलाओं को भड़काने का काम कर रही हैं। धरने पर बैठी महिलाएं ज्यादातर ग्वालटोली और कर्नलगंज की थीं। एक टीम को बाबूपरवा के फूल पार्क में भी भेजा गया। पुलिस चिह्नित महिलाओं से जुड़े अन्य लोगों की भी तलाश कर रही है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना