--Advertisement--

कानपुर: नेट पर सुसाइड के तरीकों को खोज रहे थे आईपीएस सुरेंद्र, जन्माष्टमी पर पत्नी के चिकन खाने पर भी हुआ था विवाद

हास्पिटल में एडमिट हुए 36 घंटे से ज्यादा का वक्त बीत चुका है लेकिन उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं हुआ है

Danik Bhaskar | Sep 06, 2018, 08:03 PM IST

कानपुर. बुधवार को जहर खाकर जान देने की कोशिश करने वाले आईपीएस सुरेन्द्र दास के स्वास्थ्य में किसी प्रकार का भी सुधार नहीं हुआ है। उनको हास्पिटल में एडमिट हुए 36 घंटे से ज्यादा का वक्त बीत चुका है। पुलिस जांच में कई चौकाने वाले तथ्य प्रकाश में आए हैं। जांच में पता चला है कि आईपीएस सुरेंद्र सिंह कई दिनों से डिप्रेशन में चल रहे थे। साथ ही उन्होंने नेट पर सुसाइड के कई तरीको को सर्च किया था। यही नहीं उन्होंने यह भी देखा कि सल्फास की कितनी डोज लेने से मौत हो सकती है।

शाकाहार और मांसाहार को लेकर पति-पत्नी में होता था विवाद: सुरेंद्र दास की पत्नी रवीना मांसाहारी थी और सुरेंद्र दास शाकाहारी थे। जन्माष्टमी के दिन रवीना ने बाहर से चिकन मंगवा कर खाया था। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन मांसाहार खाने पर सुरेंद्र दास ने विरोध किया था। इस बात को लेकर दोनों में झगड़ा भी हुआ था।

सुसाइड नोट में लिखा अपना दर्द: 7 लाइन के सुसाइड नोट में सुरेंद्र दास ने लिखा है कि मेरे जहर खाने के पीछे किसी का दोष नहीं है। रोज-रोज की छोटी-छोटी बातों को लेकर घरेलू झगड़ों से परेशान होकर यह कदम उठा रहा हूं। साथ ही सुसाइड नोट में रवीना आई लव यू भी लिखा है। पुलिस ने बताया कि कुछ और भी बातें नोट में हैं लेकिन उसे शेयर नहीं किया जा सकता है।

क्या कहना है पुलिस का: एसएसपी अनंत देव सिंह का कहना है कि जांच में पारिवारिक कलह की बात सामने आई है, अभी दोनों पक्षों से बात होने के बाद ही कई बातें साफ हो पाएंगी। उन्होंने बताया सुरेंद्र दास शाकाहारी हैं और पत्नी रवीना मांसाहारी हैं। इस वजह से भी दोनों में छोटे-छोटे झगड़े हुआ करते थे।