• Hindi News
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Kannauj Bus Fire | Families Search Desperately For Their Members After Bus, truck drivers among 11 dead in Uttar Pradesh's Kannauj accident

कन्नौज बस हादसा / 5 दिन बाद भी गठरी में बंधे शवों के अवशेष, सरकार तय नहीं कर सकी सवारियों और मृतकों की संख्या

Kannauj Bus Fire | Families Search Desperately For Their Members After Bus, truck drivers among 11 dead in Uttar Pradesh's Kannauj accident
X
Kannauj Bus Fire | Families Search Desperately For Their Members After Bus, truck drivers among 11 dead in Uttar Pradesh's Kannauj accident

  • प्रत्यक्षदशियों का दावा- बस ठसाठस भरी थी, 80 से ज्यादा लोग थे; प्रशासन का दावा- 45 यात्री थे
  • डीएनए जांच के लिए लखनऊ लाई गई हड्डियां, प्रशासन ने 9 लापता लोगों की एक सूची जारी की

आदित्य तिवारी

आदित्य तिवारी

Jan 15, 2020, 09:59 AM IST

लखनऊ. कन्नौज में 10 जनवरी को ट्रक से टकराने के बाद एसी बस जल गई थी। हादसे के पांच दिन बाद भी बस से बरामद 10 शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी है। हडि्डयों में तब्दील हो चुके शव पोटली में बंधे हुए मोर्चुरी में रखे हैं और लापता लोगों के परिजन आंखों में आंसू लिए उन्हें तलाश रहे हैं। बस से मिली हडि्डयों की डीएनए जांच के लिए सैंपल लखनऊ लाए गए हैं। बुधवार को मजिस्ट्रेट जांच के लिए नोटिफिकेशन जारी कर सकते हैं। बस में सवार यात्रियों की संख्या को लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, ठसाठस भरी बस में 80 से ज्यादा लोग सवार थे। प्रशासन का दावा है कि उसमें मात्र 45 सवारियां थीं।

अब तक सिर्फ एक शव की पहचान
फर्रुखाबाद से जयपुर जा रही बस से हादसे के बाद 10 शव बरामद किए गए थे, जबकि ट्रक से उसके ड्राइवर का शव बरामद हुआ था। ट्रक ड्राइवर की पहचान कान देखकर उसके मामा ने की थी। ड्राइवर का नाम अजय उर्फ रिंकू था। वह मैनपुरी का रहने वाला था। बाकी 10 शव हडि्डयों के ढांचे के तौर पर ही मिले थे, जिन्हें पोटली में बांधकर कन्नौज की मोर्चुरी में रखवा दिया गया है।

9 लापता की सूची जारी
हादसे के बाद जिला प्रशासन ने अभी तक 9 लापता लोगों की एक सूची जारी की है। इनमें लईक पुत्र मोहम्मद उमर निवासी फर्रुखाबाद, उनकी पत्नी सायदा बेगम, बेटी सादिया और बेटे शान अहमद और मोहम्मद सैफ शामिल हैं। एक परिवार के इन पांच लोगों के अलावा नूरी पत्नी नाजिम निवासी कासगंज, उनकी बेटी सानिया, प्रिया पुत्री कृपाशंकर निवासी फर्रुखाबाद, अजय कुमार पुत्र पूरन सिंह निवासी मैनपुरी शामिल हैं। हादसे में लापता लोगों को तलाश रहे उनके परिजनों का कहना हैं कि डीएनए जांच के लिए न तो सैंपल लिए गए, न ही उनसे संपर्क किया गया।

डीएनए जांच जांच के लिए सैंपल लखनऊ लाए गए
विधि विज्ञान प्रयोगशाला के डिप्टी डायरेक्टर और मेडिकोलीगल एक्सपर्ट जी खान ने जोनल फील्ड यूनिट कानपुर जोन प्रभारी सुधीर द्विवेदी और जिला फील्ड यूनिट टीम प्रभारी रामेंद्र शंकर श्रीवास्तव के साथ बस के अंदर से कई नमूने एकत्र किए। खान का कहना है कि डीएनए टेस्ट की प्रक्रिया शुरू हो गई है। छानबीन के बाद मृतकों की संख्या का पता चल सकेगा। रिश्तेदारों के सैंपल, अवशेषों को चेक करने के बाद लिए जाएंगे। छिबरामऊ एसएचओ शैलेंद्र मिश्रा का कहना है कि कोर्ट से अनुमति मिलने के बाद सभी लापता लोगों के रिश्तेदारों के सैंपल एक साथ लिए जांएगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना