कानपुर / जम्मू कश्मीर में आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुए रोहित, 17 अप्रैल को ही छुटि्टयां बिताकर लौटे थे वापस

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 12:01 PM IST



शहीद जवान रोहित यादव, फाइल फोटो शहीद जवान रोहित यादव, फाइल फोटो
X
शहीद जवान रोहित यादव, फाइल फोटोशहीद जवान रोहित यादव, फाइल फोटो

  • शहादत की खबर सुनते ही परिवार में छाया मातम
  • 2011 में बीएसएफ में हुए थे भर्ती 

कानपुर. जम्मू कश्मीर के शोपियां में सेना और आतंकियों के बीच गुरुवार को हुई मुठभेड़ में कानपुर देहात के रोहित यादव शहीद हो गए। बीती रात आर्मी कंट्रोल रूम से रोहित की शहादत की खबर सुनते ही पिता बेहोश गए। रोहित बीते 17 अप्रैल को छुट्टियां बिता कर ड्यूटी को वापस लौटे थे। जाते वक्त पत्नी और पिता से जल्द वापस लौट कर आने का वादा किया था। 

 

जनपद कानपुर देहात के डेरापुर कस्बे आंबेडकर नगर में रहने वाले गंगा सिंह यादव किसान हैं। परिवार में पत्नी विमला, बड़े बेटे रोहित, बहु वैष्णवी, छोटे बेटे सुमित के साथ रहते हैं। रोहित की शादी दो साल पहले रूरा में रहने वाली वैष्णवी से हुई थी। रोहित को बचपन से ही सेना में जाने की चाहत थी। 2011 में रोहित का बीएसएफ में चयन हुआ था।

 

  • रोहित जम्मू कश्मीर के शोपियां में तैनात थे। वे एक माह पहले ही छुट्टियां बिता कर गए थे। गुरुवार को आतंकियों से हुई मुठभेड़ में रोहित घायल हो गए थे। सेना ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया था। रोहित ने देर शाम दम तोड़ दिया। गुरुवार रात रोहित के पिता को शहादत की खबर दी गई। रोहित के शहीद होने की खबर सुनकर वो बेहोश हो गए।
  • रोहित के छोटे भाई सुमित ने बताया कि गुरुवार को जम्मू कश्मीर के शोपियां स्थित एक गांव में घर के अंदर आतंकी छिपे थे। सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों ने सेना पर हमला किया। इसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई जिसमे रोहित गंभीर रूप से घायल हो गए थे। रोहित का पार्थिव शरीर शुक्रवार शाम तक आने की उम्मीद है।
COMMENT