उन्नाव / बर्निंगट्रेन बनने से बची शताब्दी एक्सप्रेस

Dainik Bhaskar

Sep 20, 2018, 03:08 PM IST



shatabdi express escaped from big fire
X
shatabdi express escaped from big fire

  • पतंग ओएचई में फंसने से हुआ शार्ट सर्किट, अनहोनी की आशंका के चलते यात्रियों में मची अफरातफरी
  • घटना की जानकारी लगते ही इस ट्रैक पर दौड़ रहीं दूसरी ट्रेनों को भी जहां का तहां रोक दिया गया

कानपुर. नई दिल्ली से लखनऊ आ रही शताब्दी एक्सप्रेस अग्निकांड का शिकार होने से बच गई। यहां पर पतंग ओएचई में फंसने से शार्ट सर्किट हो गया। कानपुर-लखनऊ रूट की ओएचई लाइन में शॉट सर्किट होने से लखनऊ जा रही स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस को गंगाघाट रेलवे स्टेशन के पास आउटर पर रोक दिया गया। 

वीआईपी ट्रेन शताब्दी एक्सप्रेस आज बर्निंग ट्रेन होने से बच गई। ट्रेन कानपुर निलकने के बाद उन्नाव आउटर पर पहुंची थी। इसी दौरान हादसा हो गया। कानपुर-लखनऊ रूट की ओएचई लाइन में शॉट सर्किट होने से लखनऊ जा रही स्वर्ण शताब्दी एक्सप्रेस को गंगाघाट रेलवे स्टेशन के पास आउटर पर रोक दिया गया। ट्रेन के यात्रियों में अनहोनी की आशंका के चलते अफरा-तफरी मच गई।

 

पतंग फंसने से ओएचई में हुए शार्ट सर्किट का पता चलते ही रूट पर दौड़ रहीं दूसरी ट्रेनों को भी जहां का तहां रोक दिया गया। आनन-फानन में एस एंड टी विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे और लाइन की मरम्मत करवाते हुए करीब 12 बजे शताब्दी को रवाना करके रूट पर ट्रैफिक को सुचारु किया। इस दौरान ट्रेन करीब 18 मिनट तक खड़ी रही।
 

आनन-फानन विभाग के अधिकारियों ने एसएंडटी विभाग के अधिकारियों को मौके पर भेजा। अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंचे और पतंग फंसने से ट्रिप हुई लाइन को दुरुस्त किया। इसके बाद ट्रेन को 11 बजकर 54 मिनट पर लखनऊ की ओर रवाना किया गया। ट्रेन के रवाना होने के बाद अधिकारियों ने राहत की सांस ली। इस दौरान डाउन लाइन की सभी ट्रेनों को कानपुर सेंट्रल स्टेशन पर ही रोक दिया गया था।

 

आरपीएफ उपनिरीक्षक डीके शर्मा ने बताया कि शताब्दी एक्सप्रेस के रुकने की सूचना पर तुरंत ही स्टाफ सहित मौके पर पहुंच गए थे। ट्रेन व यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए वहां पर स्टाफ को तैनात कर दिया गया था। ट्रेन के रवाना होने के बाद सभी वहां से वापस लौट आए।
 

COMMENT