दुष्कर्म आरोपी को मिली अग्रिम जमानत, आहत पीड़ित ने एसपी कार्यालय के बाहर लगाई आग, 70% झुलसी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दुष्कर्म पीड़ित के कपड़ों में लगी आग। पुलिस कर्मियों ने पीड़ित को कानपुर इलाज के लिए भिजवाया। - Dainik Bhaskar
दुष्कर्म पीड़ित के कपड़ों में लगी आग। पुलिस कर्मियों ने पीड़ित को कानपुर इलाज के लिए भिजवाया।
  • उन्नाव जिला अस्पताल से पीड़ित कानपुर हैलट अस्पताल किया गया रेफर
  • बीते दो अक्टूबर को पीड़ित ने हसनगंज थाने में दर्ज कराया था केस, हाईकोर्ट से आरोपी को मिली जमानत

उन्नाव. दुष्कर्म के आरोपी को हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिलने से आहत एक 23 वर्षीय ने सोमवार को उन्नाव पुलिस अधीक्षक कार्यालय के बाहर खुद को आग के हवाले कर दिया। प्रत्यक्षदर्शियों ने आग पर काबू पाते हुए उसे अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां से उसके कानपुर हैलट अस्पताल रेफर कर दिया गया है। डॉक्टरों के मुताबिक, पीड़ित 70 फीसदी झुलसी है। एसपी ने कहा- आरोपी व पीड़ित एक दूसरे को लंबे समय से जानते हैं। आरोपी शादी से इंकार कर रहा था। इस पर महिला ने दो अक्टूबर को स्थानीय पुलिस में केस दर्ज कराया था। लेकिन इस बीच आरोपी को हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई। मामले की पड़ताल की जा रही है। 

ये भी पढ़े
अखिलेश यादव उन्नाव दुष्कर्म पीड़ित परिवार से की मुलाकात; बोले- हम सदन में उठाएंगे ये मुद्दा
हसनगंज थाना इलाके के एक गांव निवासी युवती हाथ में मिट्टी का तेल लेकर सुबह करीब 11 बजे पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंची। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, युवती ने कार्यालय के बाहर खुद पर केरोसिन डाल लिया और आग लगा लिया। लपटों से घिरी युवती जलते हुए कार्यालय में घुसने का प्रयास कर रही थी। तभी पुलिसकर्मियों ने कड़ी मशक्कत से आग पर काबू पाया और जिला अस्पताल लेकर गए। 


प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, लपटों से घिरी युवती अवधेश का नाम ले रही थी। लोगों का कहना है कि, पुलिस की तरफ से दुष्कर्म आरोपी पर कार्रवाई न होने से आहत होकर युवती ने ऐसा आत्मघाती कदम उठाया है। पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर ने कहा- युवती को कानपुर रेफर किया गया है। संबंधित थाने से अद्यतन कार्रवाई की रिपोर्ट तलब की गई है। जांच चल रही है। वहीं, डॉक्टर बृजकुमार ने बताया कि, युवती 70 फीसदी झुलसी है। हालत नाजुक है।