• Hindi News
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Unnao Rape | UP Unnao Rape Statistics; 86 Rape cases of rape in 11 months, UP Justice Minister Brajesh Pathak Unnao Rape Victim Death

उन्नाव की स्याह तस्वीर / 11 माह में दुष्कर्म के 86 मामले, जिले में छेड़खानी की 185 एफआईआर हुईं

प्रतीकात्मक। प्रतीकात्मक।
X
प्रतीकात्मक।प्रतीकात्मक।

  • 2019 में जनवरी से नवंबर माह तक के भयावह आंकड़े
  • कानून मंत्री बोले- हम दोषियों को नहीं छोड़ेंगे, वे चाहे जितने रसूखदार हों

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2019, 05:24 PM IST

उन्नाव. उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में गुरुवार तड़के जलाई गई दुष्कर्म पीड़िता ने शुक्रवार रात 11:40 बजे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। उसने मरने से पहले अपने भाई से कहा था- मेरे गुनहगारों को मत छोड़ना, मैं जिंदा रहना चाहती हूं। यह उन्नाव जिले का इकलौता मामला नहीं है। 2019 में जनवरी से नवंबर तक 11 माह में दुष्कर्म के 86 और महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न के 185 मामले उन्नाव जिले में दर्ज हुए हैं। ये वे मामले हैं, जो पुलिस तक पहुंचे हैं। तमाम मामले घर की दहलीज के भीतर ही दफन हो गए, तो कई पुलिस ने दर्ज ही नहीं किए।

उन्नाव, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटा हुआ जिला है। जो लखनऊ से 63 किलोमीटर दूर और कानपुर से करीब 25 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। उन्नाव की जनसंख्या 31 लाख है। जिले के एक भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर भी दुष्कर्म का आरोप है। अब एक अन्य दुष्कर्म पीड़िता को आरोपियों द्वारा जलाए जाने के बाद उन्नाव जिला पूरे देश में चर्चा में है। उन्नाव में दुष्कर्म व छेड़खानी के सबसे अधिक मामले असोहा, अजगैन, माखी और बांगरमऊ थाने में दर्ज किए गए हैं। इनमें से अधिकतर मामलों में आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद उन्हें या तो जमानत पर रिहा कर दिया गया, या फिर वे फरार हैं।

राज्य के कानून मंत्री बृजेश पाठक उन्नाव जिले से तालुक रखते हैं। वे यहां 2004 से 2009 तक सांसद रहे थे। मंत्री बृजेश पाठक कहते हैं- यह घटना दुखद है कि पीड़ित आज हमारे साथ नहीं है। हम इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाने के लिए आज संबंधित अदालत में अपील करेंगे। हम मामले को एक दिन में सुनवाई के लिए भी अपील करेंगे। हम दोषियों को नहीं छोड़ेंगे, वे चाहे जितने रसूखदार हों। हम सख्त कार्रवाई करेंगे।

क्या कहते हैं स्थानीय?

  • अजगैन के निवासी राघव राम शुक्ला ने कहा- उन्नाव की पुलिस पूरी तरह से नेताओं के अनुसार काम करती है। जब तक उन्हें अपने आकाओं से इजाजत नहीं मिलती वे एक इंच तक नहीं हिलते हैं। इस रवैये से अपराधियों के हौसले बुलंद होते हैं।
  • एक अन्य वकील ने कहा- यहां राजनीति से अपराध को बढ़ावा मिलता है। नेता अपराध का इस्तेमाल राजनीति में कर रहे हैं और पुलिस उनकी हितैषी बनी हुई है।

DBApp
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना