कानपुर / तो प्लान बनाकर युवकों को पीट रही पुलिस! अपने चक्रव्यूह में फंसी एंटी रोमियो टीम, अफसरों ने साधी चुप्पी

X

  • 24 घंटे से थाने पर बैठे युवक को पकड़कर साकेतनगर रेलवे मैदान ले गई एंटी रोमियो टीम
  • महिला सिपाहियों ने लात घूंसो से की पिटाई, फिर कान पकड़कर कराई उठक-बैठक, बनाया मुर्गा
  • पुलिस ने पिटाई का वीडियो किया वायरल, अधिवक्ता ने कहा- ये मानवाधिकारों का उल्लंघन

दैनिक भास्कर

Dec 11, 2019, 07:35 PM IST

कानपुर. हैदराबाद-उन्नाव दुष्कर्म केस के बाद उत्तर प्रदेश के कानपुर में सक्रिय हुई एंटी रोमियो स्क्वॉयड की बुधवार को पोल खुल गई। जानकारी के अनुसार, 24 घंटे से गोविंदनगर थाने में बैठाए गए एक युवक को एंटी रोमियो टीम बुधवार को साकेत नगर रेलवे मैदान ले गई, जहां उसे पीटा गया। फिर कान पकड़कर उठक-बैठक कराते हुए उसे मुर्गा बनाया गया। यहां टॉयलेट कर रहा एक अन्य युवक भी महिला सिपाहियों के कोप का शिकार हुआ है। मामले का वीडियो वायरल होने पर पुलिस अधिकारियों ने चुप्पी साध ली है।  

कानपुर में एंटी रोमियों टीम ने बीते दो दिनों से सार्वजनिक स्थलों पर महिलाओं-युवतियों पर भद्दे कमेंट व इर्द-गिर्द घूमने वाले मनचलों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है। इस दौरान कई मामले सिपाहियों द्वारा मनचलों की पिटाई के सामने आए हैं। जिस पर पुलिस अधिकारी अपनी पीठ-पीठ थपाते नजर आए। लेकिन बुधवार को गोविंद नगर थाना इलाके में एंटी रोमियो टीम की एक कार्रवाई से पूरे पुलिस महकमे पर सवाल उठने लगे हैं। 

एंटी रोमियो टीम ने मंगलवार की दोपहर साकेत नगर रेलवे मैदान से सचिन नाम के एक युवक को एक लड़की के साथ बात करते हुए पकड़ा था। उसे टीम ने गोविंद नगर थाने के सुपुर्द कर दिया गया। आरोप है कि, 24 घंटे से थाने पर बैठे सचिन को एंटी रोमियो टीम बुधवार को साकेत नगर रेलवे मैदान लेकर पहुंची। जहां महिला सिपाहियों ने उसे जमकर पीटा और कान पकड़कर उठक बैठक कराई। इसके बाद पिटाई का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। इस दौरान एक अन्य युवक को भी पकड़कर पीटा गया। वह मैदान में क्रिकेट खेलने के लिए पहुंचा था। 

पुलिस से पिटे युवक ने कही ये बात
सचिन ने कहा- मंगलवार को उसे पुलिस पकड़कर थाने ले गई थी। थाने से टीम बुधवार को साकेत नगर मैदान लाई, उसके बाद बेवजह पिटाई कर दी गई। जब इस मामले में अधिकारियों से बात करने का प्रयास किया गया तो किसी ने भी कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।

पुलिस कर रही मानवाधिकार का उल्लंघन
अधिवक्ता रवि शर्मा ने कहा- मनचलो की पिटाई पुलिस प्रीप्लान तरीके से कर रही है। पुलिस ऐसे काम से अधिकारियों को खुश कर सकती है। लेकिन समाज को अंधकार में रखने का काम कर रही है। पुलिस को इस तरह से बीच सड़क पर पिटाई करने का अधिकार नहीं है। यदि कोई शोहदा छेड़छाड़ कर रहा है तो उस पर आईपीसी की धारा 294 के तहत चालान काटे। ये मानवाधिकार के नियमों का भी उलंघ्घन है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना