उप्र / बजरंग दल के दोनों कार्यकर्ता देर रात रिहा किए गए; पुलिस का दावा-जय श्रीराम का नारा लगवाने की बात झूठी साबित हुई



X

  • उन्नाव मदरसे के बच्चों से जबरन जय श्रीराम का नारा लगवाने का लगाया था आरोप 
  • दो युवकों की गिरफ्तारी के विरोध में हिंदू संगठनों ने किया कोतवाली का किया था घेराव 

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 11:20 AM IST

उन्नाव/ लखनऊ.  उन्नाव मामले में देर रात कोतवाली से रिहा गए हिरासत में लिये गए दोनों युवक रिहा कर दिए गए। सूबे के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पी वी रामा शास्त्री ने देर रात पूरे मामले की जानकारी देते हुए बताया कि उन्नाव में मदरसे के बच्चों के साथ हुए झगड़े में जय श्रीराम का नारा लगवाने की बात झूठी साबित हुई है। 

 

रामाशास्त्री ने इस पूरे मामले पर स्थिति साफ करते हुए कहा कि पूरे मामले की पूरी तस्वीर साफ कर दी है। घटना केवल मारपीट तक की सीमित थी और इस दौरान जय श्री राम के नारे नहीं लगाए गए थे। लेकिन कुछ लोग इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे थे, जिसे पुलिस और प्रशासन ने विफल कर दिया है।

 

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर पीवी राम शास्त्री और अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने इस मामले में लोकभवन के मीडिया सेंटर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए यह जानकारी दी थी। यहां पीवी राम शास्त्री ने कहा कि उन्नाव में गुरुवार को क्रिकेट खेलने के दौरान दो पक्षों में आमने-सामने आ गए थे, जिनके बीच मारपीट हुई थी। स्थानीय पुलिस ने जानकारी होते ही तत्परता दिखाई और मौके पर पहुंचकर माहौल को सामान्य किया। इसके बाद धारा 323/352/504/506 के तहत मुकदमे भी लिखे।

 

उन्होंने आगे बताया कि विवेचना में यह स्पष्ट पता चला है कि इस दौरान कोई धार्मिक नारे नहीं लगाए गए थे। 

 

यह था मामला

उन्नाव में कोतवाली इलाके में गुरुवार को क्रिकेट खेल रहे मदरसे के चार छात्रों से मारपीट का मामला सामने आया था। आरोप है कि हमलावरों ने जबरन जयश्री राम के नारे लगवाए। छात्रों के कपड़े फाड़ दिए। पुलिस ने मामला दर्ज कर भाजपा युवा मोर्चा व बजरंग दल के दो कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद बजरंग दल समेत अन्य संगठन के कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी के विरोध में कोतवाली का घेराव किया था।

 

 

मदरसे के मौलाना निशार मिस्बाही का कहना था कि दोपहर को मदरसे के करीब 15 छात्र जीआईसी मैदान में क्रिकेट खेल रहे थे। तभी वहां 4 लड़के आए और छात्रों से जबरन जय श्रीराम के नारे लगाने को कहा। लेकिन, जब छात्रों ने नारे नहीं लगाए तो उन्हें जमकर पीटा और कपड़े भी फाड़ दिए।

 

आरोपियों की पहचान क्रांति व आदित्य शुक्ला के रुप में हुई है। क्रांति भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा का जिला मंत्री है। जबकि आदित्य शुक्ला बजरंग दल का कार्यकर्ता बताया जा रहा है। त्यागी ने बताया कि मदरसे के छात्रों से जबरन जयश्री राम कहने की बात की जांच की जा रही है।

 

 

 

 

 

COMMENT