उन्नाव केस / आरोपी विधायक कुलदीप के आवास समेत 4 जिलों के 15 ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी



X

  • सीबीआई ने शनिवार को कुलदीप सेंगर से सीतापुर जेल में करीब 6 घंटे पूछताछ की थी
  • ट्रक मालिक सीबीआई दफ्तर पहुंचा, कहा- मैं बेकसूर हूं; ड्राइवर और क्लीनर रिमांड पर
  • हादसे के 7वें दिन भी पीड़िता वेंटिलेटर पर, उसे निमोनिया की भी शिकायत
  • बीते रविवार को उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता का परिवार हादसे का शिकार हो गया था

Dainik Bhaskar

Aug 04, 2019, 01:09 PM IST

लखनऊ. उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के साथ हुए हादसे की जांच कर रही सीबीआई ने रविवार को आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर और उसके करीबियों के 15 ठिकानों पर छापेमारी की। जांच एजेंसी ने लखनऊ, उन्नाव, बांदा और फतेहपुर में एक साथ कार्रवाई की। एक टीम कुलदीप के आवास पर भी पहुंची। इससे पहले शनिवार को सीबीआई ने सीतापुर जेल में उससे करीब 6 घंटे तक पूछताछ की थी। इस दौरान कुलदीप के मिलने वाले लोगों की लिस्ट भी खंगाली गई।

 

सीबीआई टीम शनिवार को तीसरी बार हादसे वाली जगह पर निरीक्षण के लिए पहुंची थी। घटनास्थल के पास के दुकानदारों के बयान दर्ज किए। पीड़िता की कार को टक्कर मारने वाले ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर तीन दिन की रिमांड पर हैं। ट्रक मालिक देवेंद्र किशोर पाल भी रविवार सुबह लखनऊ स्थित सीबीआई दफ्तर पहुंचा। उसे सीबीआई ने पूछताछ के लिए तलब किया था। देवेंद्र का कहना है कि वह बेकसूर है। आरोपी विधायक से कोई वास्ता नहीं है और न ही वह पीड़िता या उसके परिवार में किसी को जानता है।

 

आज भी सेंगर से पूछताछ कर सकती है सीबीआई
सीबीआई ने सीतापुर जेल अधिकारियों से कुलदीप से मिलने वाले लोगों की वीडियो फुटेज मांगी हैं। साथ ही विधायक से मुलाकात करने आने वालों के नाम भी विजिटर्स लिस्ट में चेक किए। जेल के आसपास टॉवरों से संदिग्ध फोन कॉल की भी जानकारी जुटाई गई है। सूत्रों का कहना है कि सीबीआई रविवार को दोबारा कुलदीप से पूछताछ कर सकती है।

 

वेंटिलेटर पर है पीड़िता
28 जुलाई को हुए रायबरेली में हुए सड़क हादसे के बाद पीड़िता 7 दिन से वेंटिलेटर पर है। उसका और वकील का इलाज लखनऊ के केजीएमयू के ट्रामा सेंटर में चल रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक, गंभीर चोटों के चलते पीड़िता के फेफड़ों में जमा करीब डेढ़ लीटर खून को ट्यूब डालकर निकाला गया। संक्रमण का खतरा टल गया है, लेकिन उसे निमोनिया हो गया। डॉक्टर अब पीड़िता की बेहोशी के कारणों का पता लगा रहे हैं। वहीं, पीड़िता के वकील को वेंटिलेटर से हटा लिया गया है। हालांकि, वह अभी होश में नहीं आया है।

 

2017 में दर्ज हुआ था दुष्कर्म का मामला
साल 2017 में उन्नाव के माखी की रहने वाली एक युवती ने बांगरमऊ से विधायक कुलदीप और उसके भाई पर सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। इस मामले में गवाह पीड़िता के पिता और एक अन्य की पहले मौत हो चुकी है। बीते रविवार को पीड़िता परिवार के साथ जेल में बंद चाचा से मिलने रायबरेली जा रही थी। तभी रास्ते में उसकी कार को गलत दिशा से आ रहे ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसे में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई थी।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना