--Advertisement--

नए DGP का कुछ ऐसे बीता फर्स्ट डे, 24 घंटे में हुए यूपी में 7 मर्डर

मंगलवार को यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने चार्ज लिया है।

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 05:43 PM IST
मंगलवार को नए डीजीपी बने हैं ओपी सिंह । फाइल मंगलवार को नए डीजीपी बने हैं ओपी सिंह । फाइल

लखनऊ. यूपी के नए डीजीपी ओपी सिंह ने मंगलवार को ज्वाइन कर लिया। कुर्सी पर बैठते ही उन्होंने कहा कि, हमारे पास बेहतरीन अफसरों की टीम है। लेकिन बीते 24 घंटों में कहानी कुछ और ही दिख रही है। बीते 24 घंटों में यूपी भर में 4 मर्डर की वारदात हुई हैं। वहीं, महोबा में घर में घुसकर प्रभारी सीएमएस को गोली मार दी गई है।


सपा ने कानून व्यवस्था पर शुरू की राजनीति

-वहीं, समाजवादी पार्टी ने यूपी की कानून व्यवस्था को लेकर प्रदेश सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। समाजवादी पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल दल नेता विरोधी दल अहमद हसन की अध्यक्षता में राज्यपाल से मिल ज्ञापन सौंपा। जहां उन्होंने प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किये।

कौन हैं ओपी सिंह

-ओपी सिंह बिहार के गया जिले के मीरा बिगहा गांव के रहने वाले हैं। वह 1983 बैंच के यूपी कैडर के आईपीएस ऑफिसर हैं। वह केंद्र और यूपी में कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों को निभा चुके हैं।
-ओपी सिंह को 1993 में बहादुरी के लिए इंडियन पुलिस मेडल, 1999 में सराहनीय सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मेडल और 2005 में विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक मिल चुका है।

खासियत

-कड़क मिजाज के आईपीएस ओपी सिंह अपनी पोस्टिंग के दौरान खासा चर्चा में रहे है। महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों के साथ सीआईएसएफ को दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन, अति महत्वपूर्ण व्यक्ति (VIP) सुरक्षा, आपदा प्रबंधन तथा हती में यूएन की सशस्त्र व पुलिस यूनिट (FPU) स्थापना की सुरक्षा करने जैसे कार्य भी हाल ही में को सौंपे गए थे।

लखनऊ के तीन बार एसएसपी रहे हैं ओपी सिंह

-1983 बैच के आईपीएस ओमप्रकाश सिंह मूल रूप से गया, बिहार के निवासी हैं। वह अल्मोड़ा, खीरी, बुलंदशहर, लखनऊ, इलाहाबाद, मुरादाबाद में बतौर एसएसपी काम कर चुके हैं। ओपी सिंह 3 बार लखनऊ के एसएसपी रह चुके हैं। आजमगढ़ और मुरादाबाद के डीआईजी व मेरठ जोन के आईजी भी रह चुके हैं। इनके पास सीआरपीएफ का लंबा अनुभव है।
-दूसरी बार, 2 जून 1995 को अचानक उनका तबादला इलाहाबाद से लखनऊ किया गया, लेकिन कुछ ही घंटे बाद हुए गेस्ट हाउस कांड के कारण उन्हें दो दिन में ही सस्पेंड कर दिया गया।
-तीसरी बार वह भाजपा की कल्याण सिंह की सरकार में लखनऊ के एसएसपी बने। तीन माह नौ दिन तक इस पद पर रहने के बाद उन्हें भ्रष्टाचार निवारण संगठन भेज दिया गया।

24 घंटे में हुई ये वारदातें

डबल मर्डर से दहला मेरठ

-थाना परतापुर क्षेत्र के गांव सोरखा में दिन दहाड़े बाइक सवार हमलावरों ने गोली बरसाकर पहले बेटे की हत्या की और उसके बाद मां की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी।
-दिनदहाड़े हुए डबल मर्डर की यह घटना सीसीटीवी में कैद हो गई है। घटना की सूचना पर एसएसपी मौके पर पहुंची और जल्द हमलावरों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। गांव में डबल मर्डर की इस घटना से सनसनी फैली हुई है। बुधवार दोपहर 12 बजे के आसपास यह घटना बताई जा रही है।

आगे की स्लाइड में देखें कहां-कहां हुईं वारदातें

घर से 500 मीटर दूर हुआ लड़की का मर्डर 

-रायबरेली जिले में हरचन्दपुर थाना क्षेत्र के कठवारा गांव में मंगलवार रात एक महिला की हत्या कर दी गई। सुबह गांव के लोग शौच के लिये गये तो उसका शव अर्धनग्न हालत में घर से करीब 500 मीटर दूर बाग में पड़ा मिला। ग्रामीणों में आशंका है कि महिला की दुराचार के बाद गला रेत कर हत्या की गई होगी। महिला के शरीर के कपड़े फटे हुये थे और उसके सिर व चेहरे पर चोटों के निशान थे।

डॉक्टर को घर में घुसकर मारी गोली 

-महोबा में तकरीबन रात 11.25 बजे महोबा जिले के जिला अस्पताल के प्रभारी सीएमएस को बदमाशों ने गोली मार दी। मंगलवार रात 11. 15 बजे डाक बंगला मैदान स्थित प्रभारी सीएमएस डॉ आरपी मिश्रा अपने घर पहुंचे थे। मकान के बगल में अंधेरे का फायदा लेकर 3 बदमाश घर मे आ धमके और अंदर आकर फायरिंग शुरू कर दी। अभी उनकी हालत नाजुक बनी हुई है।  


पत्नी-बेटी का मर्डर कर पति ने खाया जहर

-लखनऊ में मंगलवार रात 3.30 बजे मडियांव इलाके में एक युवक ने पत्नी और 2 साल के मासूम की गला रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने खुद जहर खा लिया। घटना का पता उस वक्त चला, जब घर में चिल्लाने की आवाज पड़ोसियों ने सुनी। उनकी सूचना पर पहुंची पुलिस को युवक की डेडबॉडी मिली, जबकि पत्नी और 2 महीने की बच्ची का शव भी पास में पड़ा मिला।

घर के सामने 6 गोलियां मारकर कर दी हत्या 

-वाराणसी में मंगलवार रात 11 बजे डीएलडब्लू कैंपस में डीरेकाकर्मी टीके मुकेश (38) की 6 गोली मारकर हत्या कर दी गई। बताया जा रहा है कि मृतक अपने घर जाने के लिए अपनी कार से उतरने ही वाला था तभी बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया।

सेंट्रो में मिली चपरासी की लाश, हत्या की आशंका 

-बदायूं जिले में बुधवार सुबह सेंट्रो कार में एक युवक की लाश मिली। घटना थाना सिविल लाइंस इलाके के मंडी चौकी के पास की है।  युवक की पहचान संजय रस्तोगी के रूप में हुई है जो कस्तूरबा गांधी स्कूल में चपरासी के पद पर कार्यरत था। पुलिस मामले को हत्या मानकर तफ्तीश में जुटी है।