--Advertisement--

विपक्षियों को दबाने के लिए है योगी सरकार ने बनाया है 'यूपीकोका' : अखिलेश यादव

अखिलेश यादव ने कहा- यूपीकोका विरोधियों को डराने के लिए है।

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 04:50 PM IST
अखिलेश यादन ने कहा- कानून व्यवस्था ठीक नहीं है। (फाइल) अखिलेश यादन ने कहा- कानून व्यवस्था ठीक नहीं है। (फाइल)

लखनऊ. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार द्वारा सोमवार को पेश किए गए अनुपूरक बजट पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा- "भाजपा नेता डीएम की कुर्सी पर बैठकर रौब जमाते हैं, उनके सांसद और विधायक पुलिस को धमकी देते हैं। उनको रोकने के बावजूद सरकार उनका सम्मान करने को कहती है। हमने इलाज फ्री कर किया था, बिजली का उत्पादन बढ़ाया लेकिन इन्होंने मेडिकल बजट कम कर दिया और बिजली बिल बढ़ा दिया।"

-सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकार पर सवालिया अंदाज में कमेंट करते हुए कहा- "डीएम की कुर्सी पर बैठने वाले और पुलिस को धमकी देने वाले भाजपाई सुधारेंगे व्यवस्था?
-ये पार्टी भाजपा बहुत अच्छी है। क्योंकि यहां किसी पर कार्यवाई नहीं होती। चाहे पुलिस को मारो, सीओ को धमकाओ या कुछ करो। सबको आजादी है।

कानून व्यवस्था ठीक नहीं है


-गड्ढ़ा मुक्ति का सिर्फ नारा ही दिया गया है। वो मुक्ति नहीं हो पाई। खुद इनके डिप्टी सीएम और उनके मंत्री अपने जिलों को देख लें तो अंदाजा हो जाएगा।
-यहां की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त है। दिन दहाड़े राजधानी के हजरतगंज में पूर्व विधायक के बेटे को गोली कैसे मार दी। क्या ये सही कानून व्यवस्था की शुरूआत है।
-योगी सरकार ने गरीबों के इलाज का पैसा काटा है, आज डायलिसिस तक नहीं हो रहा है। ट्रामा सेंटर जो बन रहे थे उन पर रोक लगा दी गई।
-कानून व्यवस्था को ध्वस्त कर चुके हैं और अब ये मेडिकल में आ गए हैं तो सबसे पहला काम इन्होंने उसका बजट कम कर दिया।
-केजीएमयू में सीएम योगी ने डाक्टरों को धमकाया था कोई प्राइवेट प्रैक्टिस नहीं करेगा। फिर गोरखपुर वाले ही पहले केस में पाए गए। मुझे लगता है कि सीएम योगी ने ही उसको प्राइवेट प्रैक्टिस की अनुमति दी थी।
-3 महीने पहले ही कैबिनेट से इन्होंने एबीसी और डी कैटेगरी बनाकर गांवों में डाक्टरों की नियुक्ति का फार्मूला तैयार किया था। कहां गया वो फार्मूला? ये सिर्फ फार्मूले बनाते हैं। इनके पास कोई काम नहीं है।

जब एनकाउंटर से दिल नहीं भरा तो यूपीकोका


-अखिलेश ने कहा- योगीजी कहते थे, यहां कानून का डर होगा अपराधी भागेंगे। इन्होंने एनकाउंटर शुरू किया। उसके बावजूद अपराधी सीएम आवास से 600 मीटर दूरी पर ही इन्हीं की पार्टी के पूर्व विधायक के बेटे को गोली मार कर चला जाता है। तो जनता कैसे सुरक्षित रहेगी।
-जब ये कानून व्यवस्था संभाल नहीं पा रहे तो फिर एक नया फार्मूला ले आए। उसे यूपीकोका का नाम दे दिया। ये सब जनता को धोखा देने के लिए लाए हैं। 'यूपी कोका' ये अपने विपक्षी और राजनीतिक दलों को दबाने के लिए लाए हैं।'

फाइल । फाइल ।
X
अखिलेश यादन ने कहा- कानून व्यवस्था ठीक नहीं है। (फाइल)अखिलेश यादन ने कहा- कानून व्यवस्था ठीक नहीं है। (फाइल)
फाइल ।फाइल ।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..