--Advertisement--

अखिलेश यादव ने इस तरह दिए भविष्य की रणनीति के संकेत, भास्कर से शेयर की बातें

अखिलेश यादव ने गोरखपुर की जीत को इसलिए अहम बताया क्योंकि यह भाजपा का गढ़ है।

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 04:48 AM IST
अखिलेश यादव अखिलेश यादव

लखनऊ. गोरखपुर और फूलपुर के संसदीय उपचुनाव में जीत के बाद सपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दैनिक भास्कर संवाददाता से विशेष बातचीत में भविष्य की रणनीति के संकेत दिए। उन्होंने घर में किसी तरह के मनमुटाव की बात को नकार दिया। गोरखपुर की जीत को इसलिए अहम बताया क्योंकि यह भाजपा का गढ़ है।

18 साल के सियासी करियर में पहली बार माया से मिलने पहुंचे अखिलेश

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में जीत के बाद बुधवार शाम को अखिलेश यादव ने मायावती से मुलाकात की। 18 साल के राजनीतिक करियर में यह पहला मौका है जब अखिलेश बीएसपी सुप्रीमो के घर पहुंचे। वे 2000 में कन्नौज सीट पर उपचुनाव जीतकर सांसद बने थे। दोनों के बीच करीब 40 मिनट मुलाकात हुई। उपचुनाव के लिए दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने 4 मार्च को सपा को समर्थन देने का एलान किया था। किसी बड़े नेता ने इसकी जानकारी नहीं दी थी। बता दें कि इससे पहले 1993 में काशीराम और मुलायम सिंह ने गठबंधन किया था, लेकिन दोनों के बीच दोस्ती सिर्फ 2 साल चली और 1995 में टूट गई थी।

कौन-कितने वोट से जीता?

फूलपुर : सपा के नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल को 3,42,796 और बीजेपी के कौशलेंद्र सिंह पटेल को 2,83,183 वोट मिले। नागेंद्र पटेल 59,613 वोटों से जीते।
गोरखपुर : सपा के प्रवीण निषाद को 4,56,513 वोट मिले। बीजेपी कैंडिडेट उपेंद्र शुक्ल को 4,34,632 वोट मिले। निषाद 21,881 वोटों से जीते।

जीत के बाद अखिलेश ने दी थी मायावती को बधाई?

- जीत के बाद अखिलेश यादव ने बसपा प्रमुख मायावती को सबसे पहले धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि देश की महत्वपूर्ण लड़ाई में उनका सहयोग मिला। दोनों लोकसभा के लाखों लोगों ने हमें जिताया है। उनका भी धन्यवाद।