--Advertisement--

योगी सरकार पर आजम का तंज- कम से कम चोरों की फेहरिस्त में मेरा नाम शामिल कर दिया

बता दें कि अखिलेश सरकार में आजम खान जल निगम विभाग के मंत्री थे। उस दौरान उनके विभाग में 1300 पदों पर भर्तियां हुई थीं।

Danik Bhaskar | Jan 22, 2018, 12:48 PM IST
2 घंटे तक आजम खान से SIT ने पूछताछ की। 2 घंटे तक आजम खान से SIT ने पूछताछ की।

लखनऊ. -जल निगम भर्ती घोटाले में सोमवार को आजम खान से एसआईटी ने दो घंटे तक पूछताछ हुई। इस दौरान आजम खान के करीबी पूर्व सचिव (नगर विकास) एसपी सिंह मौजूद थे। एसपी सिंह और आजम खान को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की गई।बता दें कि जल निगम भर्ती घोटाले में आजम खान से पूछताछ के लिए एसआईटी ने 22 जनवरी तक पेश होने का नोटिस दिया था। योगी सरकार पर आरोप...

- पूछताछ के बाद आजम खान ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा- " ये पार्टी मेरे दामन पर दाग लगाना चाहती है। मैंने कोई गलत काम नही किया। मैंने बच्चो को नौकरी दी है। ये सरकार मेरे दामन पर कालिख पोतना चाहती है। हमने डिग्री होल्डर को नहीं कहा, ठेला लगा लो। जिनके पास डिग्रियां थी, उनको नौकरिया मिला। कैसे परीक्षा होती है। कैसे नौकरियां मिलीं। ये हमें नहीं पता है। जिनके घर वाले ठेला लगाते है, जिनके टिन और छप्पर के घर है उनको नौकरियां मिली थी।"

मेरे ऊपर कोई दाग नहीं था: आजम खान

- "मेरे ऊपर न कभी कोई दाग था। न है और न ही कभी होगा। इससे बड़ा सवाल क्या होगा कि मौजूदा सरकार ने कम से कम मेरे मुंह पर कालिख लगा दी। मुझे एक इल्जाम की सफाई देने के लिए यहां आना पड़ा। मैं धन्यवाद देना चाहता हूं कि बीजेपी सरकार को जिसने एक ऐसे आदमी पर इल्जाम लगाया,जिसने आज तक एक मोटर तक नही खरीदी, उसके दामन और चेहरे पर कालिख लगाई है।

- वहीं, एसआईटी के सामने पेश होने से पहले आजम खान ने कहा- "सरकार कुछ करे या ना करे, कम से कम चोरों की फेहरिस्त में तो मेरा नाम दे दिया। इतना तो कर सरकार अपमानित कर चुकी है।"

अब तक हुई है ये कार्रवाई

-इस मामले में 122 असिस्टेंट इंजीनियर को सरकार बर्खास्त कर चुकी है। इससे पहले 22 सितंबर को एसआईटी का जल निगम के हेडक्वार्टर पर छापा पड़ा था। 5 दिसंबर को तत्कालीन एमडी पीके आसुदानी से पूछताछ हुई थी। अब तक इस मामले में 8 अफसरों के बयान एसआईटी दर्ज कर चुकी है।

इन पदों पर हुई थी भर्तियां

सहायक अभियंता- 122
अवर अभियंता- 853
नैतिक लिपिक - 335
आशुलिपिक- 32

आजम खान पर करप्शन के आरोप लगे

-बता दें कि अखिलेश सरकार में आजम खान जल निगम विभाग के मंत्री थे। उस दौरान उनके विभाग में 1300 पदों पर भर्तियां हुई थीं। इन भर्तियों में उनके उपर करप्शन के आरोप लगे है। शिकायतकर्ताओं ने आरोप लगाया था कि भर्ती के दौरान नियमों को दरकिनार करते हुए गलत नियुक्तियां की गईं।

- वहीं, बीजेपी की सरकार आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि एसपी के कार्यकाल में हुई हर सरकारी विभाग की भर्तियों की जांच कराएंगे। जल निगम में हुई भर्तियों की जांच बीते सितंबर महीने में एसआईटी को दी गई थी।
- इस मामले में अब तक पूर्व नगर विकास सचिव एसपी सिंह के बयान भी दर्ज हो चुके हैं। आईएएस एसपी सिंह अब रिटायर हो चुके हैं। वहीं आजम खान के ओएसडी रहे आफाक भी बयान दर्ज करा चुके हैं। अब एसआईटी ने आजम खान को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया है।

आजम खान पिछली अखिलेश सरकार में जल निगम विभाग के मंत्री थे। आजम खान पिछली अखिलेश सरकार में जल निगम विभाग के मंत्री थे।