--Advertisement--

UP में पहले भी हो चुकी है अधिकारियों के साथ मारपीट, ये है 5 बड़े मामले

ANM की मनचाही पोस्टिंग को लेकर हरदोई में सीएमओ ऑफिस में काफी हंगामा हुआ था।

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 12:29 PM IST
UP में कई जगहों पर डॉक्टर के साथ मारपीट हुई है। (फाइल) UP में कई जगहों पर डॉक्टर के साथ मारपीट हुई है। (फाइल)

लखनऊ. एएनएम की मनचाही पोस्टिंग को लेकर हरदोई अंर्तगत मल्लावा के बीजेपी विधायक आशीष सिंह ने शनिवार को सीएमओ ऑफिस में काफी हंगामा काटा था। सीएमओ ऑफिस पहुंचे विधायक ने मेन गेट के बाहर ताला डाल दिया था। सीएमओ पीएन चतुर्वेदी ने बीजेपी विधायक पर बंधक बनाकर अभद्रता करने का भी आरोप लगाया है। प्रांतीय चिकित्सा सेवा संघ (पीएमएस) के सेक्रेटरी अमित कुमार ने DainikBhaskar.com को अधिकारियों के साथ मारपीट और अभद्रता के 5 बड़े मामलों के बारे में बताया।

ये है अधिकारियों के साथ बड़े बवाल...

17 नवंबर 2017
- लखीमपुर खीरी के गोला के पास हुई सड़क दुर्घटना में कुछ छात्राएं घायल हो गई थी। जिनको इलाज के लिए डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल लाया गया था। डॉ. एके गौतम ने उनका इलाज कर वापस घर भेज दिया।
- इसके बाद भी कुछ लोगों ने हंगामा किया, इसी दौरान एसडीएम सदर नागेंद्र सिंह, सीओ सिटी आर के वर्मा के साथ आ गए। उन्होंने इमरजेंसी में ड्यूटी पर मौजूद डॉ. मोहित तिवारी व अन्य चिकित्सको से भी अभद्रता की थी। जिसके बाद वहां के डाक्टर हड़ताल पर चले गए थे।

13 दिसंबर 2017
- शिवपुरी के सीएमओ रणवीर कुमार ने बीजेपी नेता और वार्ड नंबर 20 की पार्षद रेखा परिहार के पति गब्बर सिंह पर रात में घर में घुसकर मारपीट करने का आरोप लगाया था।
- आरोप है कि घटना से पूर्व बीजेपी नेता अपनी समस्या को लेकर सीएमओ के पास शिकायत करने पहुंचा तो, सीएमओ ने उनकी बात को तवज्जो नहीं दी। इससे नाराज होकर पार्षद ने सीएमओ के घर में घुसकर मारपीट की थी।

28 अगस्त 2017
- सड़क दुर्घटना में घायल समर्थक को देखने सुल्तानपुर के डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल पहुंचे बीजेपी विधायक देवमणि दूबे की मौजूदगी में उनके समर्थकों ने डॉक्टर और फार्मासिस्ट की इमरजेंसी के अंदर पिटाई कर दी थी।
- जिसके बाद वहां के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे। बाद में जिला प्रशासन द्वारा उचित कार्रवाई करने का आश्वासन मिलने के बाद डाक्टर काम पर वापस लौटे थे।

10 अगस्त 2016
- कानपुर के उर्सला ब्लड बैंक में सपा की तरफ से आयोजित रक्तदान शिविर में पहुंचे विधायक इरफान सोलंकी ने हॉस्पिटल के अंदर हंगामा किया था और ब्लीडिंग से पहले शुगर जांच न कराने पर सवाल उठाए थे।
- पैथालाजिस्ट ने बाद में जांच के प्रावधान का हवाला दिया तो विधायक भड़क गए और गाली गलौज करने लगे। दोनों में नोकझोंक हुई। विधायक ने एक सप्ताह में उन्हें हटवाने की धमकी देते हुए उनकी डिग्री को फर्जी बताकर जांच कराने की बात कही थी।
- इससे नाराज पैथालाजिस्ट ने इस्तीफा देकर विधायक के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दिया था।

पीएमएस के सेक्रेटरी अमित कुमार। (फाइल) पीएमएस के सेक्रेटरी अमित कुमार। (फाइल)