--Advertisement--

2019 लोकसभा चुनाव के लिए BJP ने तैयार किया ये थीम, यहां से करेगी शुरुआत

2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा अब भगवान हनुमान थीम पर चुनावों में उतरने की तैयारी कर रही है।

Danik Bhaskar | Jan 27, 2018, 05:10 PM IST

लखनऊ. 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा अब भगवान हनुमान थीम पर चुनावों में उतरने की तैयारी कर रही है। इस थीम के जरिए पूरे यूपी में भक्ति की अलख जगाया जाएगा। कार्यक्रम के संचालक आशुतोश कुमार राय ने DainikBhaskar.com से बातचीत के दौरान बताया कि भगवान राम की निःस्वार्थ भक्ति की तरह ही पीएम मोदी देश की सेवा कर रहे हैं। उन्हीं के कार्यों को ही हम पूरे यूपी में पहुंचाने का काम करेंगे। जाने क्या है हनुमान थीम...

- हनुमान थीम पर मोदी संकल्प यात्रा निकालने वाले भाजपा युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष आशुतोश कुमार राय ने बताया कि- हम सभी जिलों में जाकर रामभक्त हनुमान की निस्वार्थ भक्ति की कथा बताएंगे।
- साथ ही, राष्ट्रभक्त पीएम मोदी की पॉलिसी किस प्रकार से लोगों के लिए आने वाले समय में लाभकारी है वो भी बताएंगे।
- हर जिला मुख्यालय के मंदिर और सार्वजनिक धार्मिक स्थल पर हनुमान चलीसा का म्यूजिकल पाठ कराते हुए इसकी शुरूआत की जाएगी। वहीं, इसके लिए हर जिलें में 1 दिन बिताएंगे और बड़े जिलों में 2 दिन भी प्रवास किया जाएगा।

भगवान हनुमान को ही क्यों चुना गया
- आशुतोश कुमार राय ने बताया कि आज देश की बागडोर जिनके हाथ में है, वो निस्वार्थ देशसेवा कर रहे हैं।
- रामराज्य की कल्पना भगवान हनुमान की भक्ति में है, उसके सार्मथ्य में है। भगवान हनुमान ने कर्म और भक्ति के माध्यम से पूरे समाज को एक करने का संदेश दिया है।
- उनके जीवन रहस्यों में ही रामराज्य की संकल्पना को मूर्ति रूप दिया जा सकता है। क्योंकि रामराज्य सरकार और समाज दोनों का कॉम्बिनेशन से ही सम्भव है।
- हनुमान चालीसा के गायन के माध्यम से उनके बल-पराक्रम और भक्ति का बखान करते हुए लोगों को स्वाभिमानी बनाना मकसद है। क्योंकि स्वाभिमानीं पीएम मोदी ने विदेश में भारत का डंका बजा रखा है।
- साथ ही, इसमें सभी स्कूल कॉलेजों और यूनिवर्सिटी के टीचर-प्रोफेसर से लेकर स्टूडेंट तक को इनवाइट किया जाएगा।

चित्रकूट से शुरूआत, हस्तिनापुर में समापन
- इस कार्यक्रम की शुरूआत 15 मार्च से होगी, हांलाकी ये संभावित डेट है। ये पूरा कार्यक्रम 6 महीने तक चलेगा। इसका शुभारंभ चित्रकूट जिले से होगा और समापन हस्तिनापुर में यानीं मेरठ में होगा। इसमें 15 साल से 35 साल तक के यूथ को विशेष महत्व दिया जाएगा।