--Advertisement--

विदाई के पहले दुल्हन को पता चली दूल्हे का ये राज, बोली- नहीं जाउंगी साथ

मैनपुरी(यूपी). यहां एक दुल्हन ने विदाई से चंद मिनटों पहले ही ससुराल जाने से इनकार कर दिया।

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 05:13 PM IST
12 फरवरी को दूल्हा बरात लेकर पहुंचा। 13 फरवरी सुबह विदाई से पहले दुल्हन ने साथ जाने से इनकार कर दिया। 12 फरवरी को दूल्हा बरात लेकर पहुंचा। 13 फरवरी सुबह विदाई से पहले दुल्हन ने साथ जाने से इनकार कर दिया।

मैनपुरी(यूपी). यहां एक दुल्हन ने विदाई से चंद मिनटों पहले ही ससुराल जाने से इनकार कर दिया। दुल्हन की फैमिली ने भी उसका सपोर्ट किया। इसपर दुल्हन पक्ष ने शादी में हुए खर्चे का हिसाब दूल्हे पक्ष से मांगा, लेकिन उन्होंने देने से मना कर दिया। गुस्साए दुल्हन पक्ष ने दूल्हे समेत 10 बारातियों को बंधक बना लिया। अगले दिन दूल्हे पक्ष को 71 हजार कैश देकर, दो दिन बाद रिहाई मिली। दूल्हे का ये राज सुन बिगड़ी दुल्हन...


- मामला थाना बिछवां के गांव बुर्राचक सहारा का है। यहां के सोवरन सिंह की बेटी देवलता(22) की एटा के महाराम के बेटे कौशल(25) से शादी तय हुई।
- 12 फरवरी को दूल्हा बरात लेकर पहुंचा। शादी की सारी रस्में खुशी के माहौल में हुई। फेरे पड़ने के बाद 13 फरवरी सुबह विदाई की तैयारी चल रही थी।
- तभी दुल्हन के चाचा को पता चला कि दूल्हे के ऊपर का मामला दर्ज है। चर्चा दुल्हन तक पहुंची तो उसने विदाई से इनकार कर दिया।
- दुल्हन ने कहा- चरित्रहीन दूल्हे के साथ अपना जीवन हरगिज नहीं बिता सकती। इस फैसले में दुल्हन के परिजन ने भी उसका समर्थन किया।
- बारातियों को जैसे ही दुल्हन के फैसले की खबर लगी खलबली मच गई। वहीं, दूल्हा खुद को निर्दोष बताता रहा था, लेकिन दुल्हन ने उसकी एक न सुनी।
- दूल्हे और उसके परिजन मायूस होकर लौटने लगे। तभी दुल्हन पक्ष ने उन्हें रोक लिया और शादी में हुए खर्चे का हिसाब देने के बात कहीं।
- इनकार करने पर दुल्हन पक्ष ने दूल्हे समेत लगभग 10 बारातियों को बंधक बना लिया।

आगे की स्लाइड में पढ़ें, 71 हजार रुपए देकर मिली दूल्हे को रिहाई...

दुल्हन के चाचा को पता चला कि दूल्हा जेल जा चुका है। वो खुद को निर्दोष बताता रहा था, लेकिन दुल्हन ने उसकी एक न सुनी। (दूल्हा) दुल्हन के चाचा को पता चला कि दूल्हा जेल जा चुका है। वो खुद को निर्दोष बताता रहा था, लेकिन दुल्हन ने उसकी एक न सुनी। (दूल्हा)

71 हजार रुपए देकर मिली दूल्हे को रिहाई 


- बंधक की सूचना मिलते ही 14 फरवरी को मौके पर एसओ आरके सिंह पहुंचे। दुल्हन पक्ष को समझाने के बाद दूल्हे पक्ष को आजाद कराया। 
- मामले को निपटाने के लिए दूल्हे पक्ष को शादी में हुए खर्चे के 71 हजार रुपए देने पड़े। इसके बाद ही वो वापस लौट सके। 

 

आगे की स्लाइड में पढ़ें, इस जुर्म में दूल्हा जा चुका है जेल... 

 

 

दुल्हन पक्ष ने शादी में खर्चे का हिसाब दूल्हे पक्ष से मांगा। इनकार करने पर दूल्हे समेत लगभग 10 बारातियों को बंधक बना लिया। दुल्हन पक्ष ने शादी में खर्चे का हिसाब दूल्हे पक्ष से मांगा। इनकार करने पर दूल्हे समेत लगभग 10 बारातियों को बंधक बना लिया।

इस जुर्म में दूल्हा जा चुका है जेल   

- दूल्हे के चाचा सुरेश से पूछताछ में पता चला कि 5 महीने पहले एटा में ही लड़की भगाने का मामला दर्ज हुआ था।
- इस मामले में वह जेल भी जा चुका है। जानकारी होने के बाद विदाई को रोक दी गई। 

X
12 फरवरी को दूल्हा बरात लेकर पहुंचा। 13 फरवरी सुबह विदाई से पहले दुल्हन ने साथ जाने से इनकार कर दिया।12 फरवरी को दूल्हा बरात लेकर पहुंचा। 13 फरवरी सुबह विदाई से पहले दुल्हन ने साथ जाने से इनकार कर दिया।
दुल्हन के चाचा को पता चला कि दूल्हा जेल जा चुका है। वो खुद को निर्दोष बताता रहा था, लेकिन दुल्हन ने उसकी एक न सुनी। (दूल्हा)दुल्हन के चाचा को पता चला कि दूल्हा जेल जा चुका है। वो खुद को निर्दोष बताता रहा था, लेकिन दुल्हन ने उसकी एक न सुनी। (दूल्हा)
दुल्हन पक्ष ने शादी में खर्चे का हिसाब दूल्हे पक्ष से मांगा। इनकार करने पर दूल्हे समेत लगभग 10 बारातियों को बंधक बना लिया।दुल्हन पक्ष ने शादी में खर्चे का हिसाब दूल्हे पक्ष से मांगा। इनकार करने पर दूल्हे समेत लगभग 10 बारातियों को बंधक बना लिया।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..