--Advertisement--

CBI ने अपने ही सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर समेत 2 को किया अरेस्ट, IRCTC वेबसाइट करी हैक

सीबीआई ने रेलवे के तत्काल रिजर्वेशन सिस्टम को ध्वस्त करने वाले अपने ही प्रोग्रामर अजय गर्ग को अरेस्ट किया।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 10:46 AM IST
IRCTC वेबसाइट में छेड़छाड़ कर रेलवे के तत्काल रिजर्वेशन सिस्टम को ध्वस्त करते हुए एक ही बार में सैकड़ों टिकटों का आरक्षण करते थे। IRCTC वेबसाइट में छेड़छाड़ कर रेलवे के तत्काल रिजर्वेशन सिस्टम को ध्वस्त करते हुए एक ही बार में सैकड़ों टिकटों का आरक्षण करते थे।

लखनऊ. सीबीआई ने रेलवे के तत्काल रिजर्वेशन सिस्टम को ध्वस्त करने वाले अपने ही प्रोग्रामर अजय गर्ग को अरेस्ट किया। सीबीआई अफसर के मुताबिक, ''नेटवर्क से जुड़े अनिल गुप्ता को जौनपुर जिले स्थित उसके घर से मंगलवार को गिरफ्तार किया गया। इसे पांच दिन की ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली भेजा गया है। वहीं, अजय को साकेत की एक विशेष अदालत में बुधवार को पेश किया गया, जहां से उसे 5 दिनों की सीबीआई हिरासत में भेज दिया गया है। 2012 में शुरू की थी अपनी सेवाएं ...

- अजय गर्ग ने 2012 में सीबीआई में सहायक प्रोग्रामर के तौर पर अपनी सेवाएं शुरू की थी। उसका चयन एक प्रक्रिया के तहत किया गया था।
- इससे पहले वो 2007 से 2011 के बीच आईआरसीटीसी के लिए काम करता था। वहीं उसे रेलवे टिकटिंग सिस्टम के बारे में गहराई से पता चला।
- सूत्रों ने बताया, ''अजय ने एक अवैध सॉफ्टवेयर बनाया, जिसके जरिए एजेंट एक बार में सैकड़ों टिकट बुक कर सकते थे। जरूरतमंद यात्री टिकट से वंचित रह जाते थे।''

- ''अजय को उसके मुख्य सहयोगी अनिल गुप्ता के साथ गिरफ्तार किया गया है। यह सहयोगी एजेंटों को सॉफ्टवेयर बेचा करता था।''
- इनके अलावा 10 एजेंटों की पहचान की गई है, जिनमें से 7 जौनपुर और 3 मुंबई में हैं।


14 स्थानों पर छापेमारी, 61.29 लाख रुपए के सोने के गहने मिले
- रात भर चले ऑपरेशन के दौरान सीबीआई ने दिल्ली, मुंबई और जौनपुर में 14 स्थानों पर छापेमारी की।
- यहां से 89.42 लाख रुपए की नकदी, 61.29 लाख रुपए के सोने के गहने बरामद हुए। साथ ही एक किलो की दो सोने की छड़ें, 15 लैपटॉप, 15 हार्ड डिस्क, 52 मोबाइल फोन, 24 सिम कार्ड, 10 नोटबुक, 6 राउटर, चार डोंगल भी मिले हैं।

- 19 पेन ड्राइव के साथ-साथ अभियुक्तों के परिसर और अन्य लोगों के परिसर से कुछ आपत्तिजनक सामग्री बरामद की है।


IRCTC वेबसाइट में छेड़छाड़ कर-डेवलप की प्रणाली
- सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया, ''आरोपी ने आईआरसीटीसी द्वारा चलाए जा रहे तत्काल टिकट बुकिंग प्रणाली में छेड़छाड़ के लिए एक अवैध सॉफ्टवेयर विकसित किया था।''
- ''यह साजिश अनिल कुमार गुप्ता के साथ रची थी। इन लोगों ने सॉफ्टवेयर को निजी व्यक्तियों को भारी भरकम रकम में अवैध इस्तेमाल के लिए बेच दिया था।''

प्रोग्रामर अजय गर्ग समेत नेटवर्क से जुड़े अनिल गुप्ता को जौनपुर से गिरफ्तार किया। प्रोग्रामर अजय गर्ग समेत नेटवर्क से जुड़े अनिल गुप्ता को जौनपुर से गिरफ्तार किया।