--Advertisement--

गोमती रिवर फ्रंट घोटाला: 8 इंजीनियर के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, जुलाई में हुई थी सिफारिश

जुलाई महीने में योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी। जिसके बाद 8 इंजीनियरों के खिलाफ केस दर्ज कराया।

Danik Bhaskar | Dec 02, 2017, 11:15 AM IST
जुलाई महीने में सीबीआई जांच के लिए योगी सरकार ने सिफारिश की थी। जुलाई महीने में सीबीआई जांच के लिए योगी सरकार ने सिफारिश की थी।

लखनऊ. अखिलेश यादव के ड्रीम प्रोजेक्ट रिवर फ्रंट डेवलपमेंट प्रोजेक्ट मामले में सीबीआई ने 8 इंजीनियरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इस केस में रूप सिंह यादव, सुरेंद्र सिंह यादव, काजिम अली, शिव मंगल यादव, कमलेश्वर सिंह और तत्कालीन चीफ इंजीनियर गुलेस चंद समेत 8 लोगों के नाम शामिल हैं। इन सभी लोगों के खिलाफ अनियमितता और कथित भ्रष्टाचार की धाराओं में केस दर्ज करवाया गया है। शिवपाल पर जांच की आंच

- सिंचाई विभाग के सूत्रों के अनुसार तत्कालीन सिंचाई मंत्री शिवपाल सिंह यादव, मुख्य सचिव आलोक रंजन, तत्कालीन प्रमुख सचिव वित्त राहुल भटनागर, प्रमुख सचिव सिंचाई दीपक सिंघल, शिवपाल के करीबी कई अभियंताओं समेत कई बड़ों पर जांच की आंच आ सकती है।

- बता दे कि जिन इंजीनियरों पर सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कराई गई है उनमें तत्कालीन समय में सिंचाई विभाग में मुख्य अभियंता शारदा सहायक एसएन शर्मा, काजिम अली, अधीक्षण अभियंता शिवमंगल यादव, रूप सिंह यादव, अलिख रमण, कमलेश्वर सिंह और अधिशासी अभियंता के पद पर सुरेंद्र कुमार यादव थे।


योगी सरकार ने की थी सीबीआई जांच की सिफारिश
-प्रदेश की योगी सरकार ने गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच सीबीआई से करवाने की सिफारिश जुलाई महीने में की थी। सिफारिश में न्यायिक जांच समिति की रिपोर्ट, गोमतीनगर थाने में दर्ज एफआईआर की कॉपी व अन्य दस्तावेज भी प्रारूप के साथ भेजे गए थे। इस मामले में सिंचाई विभाग की तरफ से 19 जून को राजधानी के गोमतीनगर थाने में आठ अभियंताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई थी।

सरकार बनने के बाद सीएम योगी ने गोमती रिवर फ्रंट गए थे। सरकार बनने के बाद सीएम योगी ने गोमती रिवर फ्रंट गए थे।