--Advertisement--

वैभव तिवारी मर्डर केस: योगी सरकार ने की सीबीआई जांच की सिफारिश, 16 दिसंबर को हुई थी हत्या

इस मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को अरेस्ट कर लिया है।

Dainik Bhaskar

Jan 23, 2018, 04:47 PM IST
योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है।

लखनऊ. 16 जनवरी को राजधानी के पॉश इलाके में हुए वैभव तिवारी मर्डर केस की सीबीआई जांच की सिफारिश योगी सरकार ने कर दी है। अब तक इस मामले में मुख्य आरोपी विक्रम सिंह और उसके साथी सूरज को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है। 16 दिसंबर को हुआ था मर्डर


- लखनऊ के पॉश इलाके हजरतगंज में सिद्धार्थनगर के पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) के दोस्त ने ही 16 दिसंबर की देर रात गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या की वजह प्रॉपर्टी को लेकर विवाद बताया गया था।

घटना की रात हुआ था ऐसा

-16 दिसंबर की रात 9 बजे सूरज शुक्ला नामक किसी व्यक्ति ने उसे फोन किया और अपार्टमेंट से नीचे आने की बात कहकर बुलाया। सूरज मृतक का दोस्त बताया गया था।
-वैभव कमरे से निकलकर नीचे आए। जैसे ही वो नीचे उतरे, सूरज से उनकी किसी बात को लेकर बहस होने लगी। जब तक कुछ समझ पाते, सूरज के साथ आया हिस्ट्रीशीटर विक्रम सिंह ने गोली मार दी और मौके से दोनों फरार गए।
-उसी बीच पूर्व विधायक के भतीजे आदित्य ने उसे भागते हुए देख लिया, लेकिन वो भी कुछ नहीं समझ पाए। तब तक वह अपनी कार में बैठकर फरार हो गया। कार में एक और व्यक्ति पहले से ही बैठा हुआ था।


माफिया मुन्ना बजरंगी का करीबी है आरोपी
-जानकारी के अनुसार, सूरज शुक्ला खुर्दही बाजार का निवासी है। मुन्ना बजरंगी का करीबी है। उसके पिता प्लॉटिंग का बिजनेस करते हैं। प्रॉपर्टी को लेकर कोई व‍िवाद था। इस मामले में वैभव की गोली मारकर हत्या की गई है। वैभव तिवारी के पिता जिप्पी तिवारी ने बताया, उनके बेटे का किसी से कोई विवाद नहीं था।


कौन था वैभव तिवारी ?
- मूलरूप से दमवापुर जगतराम डुमरियागंज सिद्धार्थनगर निवासी पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस अपार्टमेंट के कमरा नंबर 322 में रहते थे। वैभव तिवारी गांव के प्रधान थे। मां संध्या तिवारी बीडीसी हैं।

पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को अरेस्ट किया है। (फाइल) पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को अरेस्ट किया है। (फाइल)
16 दिसंबर को वैभव तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। (फाइल) 16 दिसंबर को वैभव तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। (फाइल)
- मूलरूप से दमवापुर जगतराम डुमरियागंज सिद्धार्थनगर निवासी पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस अपार्टमेंट के कमरा नंबर 322 में रहते थे। (फाइल) - मूलरूप से दमवापुर जगतराम डुमरियागंज सिद्धार्थनगर निवासी पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस अपार्टमेंट के कमरा नंबर 322 में रहते थे। (फाइल)
X
योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है।योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है।
पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को अरेस्ट किया है। (फाइल)पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को अरेस्ट किया है। (फाइल)
16 दिसंबर को वैभव तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। (फाइल)16 दिसंबर को वैभव तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। (फाइल)
- मूलरूप से दमवापुर जगतराम डुमरियागंज सिद्धार्थनगर निवासी पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस अपार्टमेंट के कमरा नंबर 322 में रहते थे। (फाइल)- मूलरूप से दमवापुर जगतराम डुमरियागंज सिद्धार्थनगर निवासी पूर्व बीजेपी विधायक जिप्पी तिवारी के बेटे वैभव तिवारी (23) हजरतगंज स्थित कसमंडा हाउस अपार्टमेंट के कमरा नंबर 322 में रहते थे। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..