Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» Ex Cm And MLA Cant Use Up Government Emblem

विस स्पीकर का आदेश, पूर्व CM और MLA नहीं कर सकेंगे UP सरकार के लोगो का इस्तेमाल

ये आदेश यूपी विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने जारी किया है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jan 01, 2018, 01:05 PM IST

  • विस स्पीकर का आदेश, पूर्व CM और MLA नहीं कर सकेंगे UP सरकार के लोगो का इस्तेमाल
    +1और स्लाइड देखें
    विधानसभा अध्यक्ष ने आदेश जारी किया है। (फाइल)।

    लखनऊ.यूपी के पूर्व सीएम, एमएलए, मंत्री और एमएलसी अपने लेटर पर यूपी सरकार का लोगो इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। ये आदेश यूपी विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने जारी किया है। लोगो का इस्तेमाल करने की रोक सभी पूर्व मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक, और एमएलसी के लिए हैं। अब केवल मौजूदा सीएम, विधायक, मंत्री ही यूपी सरकार का लोगो यूज कर सकेंगे।

    -अब तक पूर्व विधायक अपने लेटरपैड पर यूपी सरकार का लोगो इस्तेमाल कर रहे थे। लेकिन अब नहीं करेंगे।


    विधायकों को कैसे मिलता है लेटर हेड

    -विधायकों व विधान परिषद सदस्यों को विधानसभा सचिवालय लेटर हेड जारी करता है। जिसमें यूपी सरकार का लोगो बना होता है। इस लेटर हेड पर विधायक के क्षेत्र का नाम, उसका नाम नहीं लिखा होता, अलबत्ता विधानसभा सचिवालय एक नंबर जारी करता है।
    -पूर्व विधायक, विधान परिषद सदस्यों को लेटर हेड जारी करने का कोई नियम नहीं है। मगर कमोवेश सभी पूर्व विधायक निजी तौर पर छपावाये गये लेटर हेड पर यूपी सरकार का लोगो छपवा लेते हैं।

    लेटर हेड का दुरुपयोग रोकने की मंशा

    -सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह का कहना है- "लोगो पर रोक लगाने के पीछे लेटर हेड के दुरुपयोग रोकने की मंशा है। किसी पूर्व विधायक या विधान परिषद सदस्यों का सम्मान कम करने की मंशा नहीं है।"

  • विस स्पीकर का आदेश, पूर्व CM और MLA नहीं कर सकेंगे UP सरकार के लोगो का इस्तेमाल
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Lucknow News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Ex Cm And MLA Cant Use Up Government Emblem
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×