--Advertisement--

होमगार्ड स्थापना दिवस पर बोले राज्यमंत्री-मेरा बस चले तो अन्य राज्यों से ज्यादा वेतन दूं

विवादी ढांचे की घटना के कारण होमगार्ड विभाग अपना स्थापना दिवस नहीं मनाता था।

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2017, 02:14 PM IST
6 दिसंबर 1962 में होमगार्ड विभाग की स्थापना हुई थी। 6 दिसंबर 1962 में होमगार्ड विभाग की स्थापना हुई थी।

लखनऊ. यूपी के होमगार्ड विभाग ने बुधवार अपना स्थापना दिवस समारोह मनाया। इस दौरान प्रदेश भर से आए जवानों ने बेहतरीन परेड का प्रदर्शन किया। इसके बाद राज्य मंत्री अनिल राजभर ने होमगार्ड विभाग को स्वाभिमान और शौर्य का प्रतीक झंडा (ध्वज) प्रदान किया गया। चीन के आक्रमण के बाद हुआ था गठन...


- 6 दिसंबर 1962 में चीन द्वारा भारत पर आक्रमण के बाद होमगार्ड विभाग की स्थापना की गई थी। लेकिन 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में विवादी ढांचे की घटना के कारण विभाग अपना स्थापना दिवस समारोह नहीं मनाता था।
- ऐसे में बुधवार को होमगार्ड मुख्यालय लखनऊ में स्थापना दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान पहली बार 55 सालों के लंबे इंतजार के बाद राज्य सरकार की ओर से मंत्री अनिल राजभर ने औपचारिक तौर पर होमगार्ड विभाग को स्वाभिमान और शौर्य का प्रतीक लाल व काले रंग का ध्वज (झंडा) सौंपा।
- कमांडेंट केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान संजीव कुमार कुमार शुक्ल ने बताया कि होमगार्ड विभाग के अथक प्रयासों के बाद औपचारिक रुप से राज्य सरकार द्वारा ध्वज प्रदान किया गया है। राज्य मंत्री अनिल राजभर ने परेड कमांडर शैलेंद्र प्रताप सिंह (जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण, इलाहाबाद) को ध्वज प्रदान किया।

ड्यूटी न मिलने की समस्याएं हो रही दूर
- राज्य मंत्री अनिल राजभर ने कहा, "विभाग के अधिकारियों ने मिलकर शासन स्तर पर प्रयास किया। जिसके बाद होमगार्डों को ड्यूटी नहीं मिलने की समस्या खत्म हो रही है। हाल ही में 25 हजार जवानों के लिए ड्यूटी उपलब्ध कराई गई। हमारी सरकार में होमगार्ड के असंतोष का विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ।"
- "मेरा बस चले तो अन्य राज्यों से ज्यादा इस विभाग के होमगार्डों का वेतन कर दूं। विश्वास बनाए रखिए, हम प्रयास में लगे हुए हैं।"
- "पिछली सरकारों ने विभाग की स्थापना दिवस की परेडों को भी स्थगित कर दिया था। 15 सालों में सरकार के खजाने की क्या स्थिति रही है, यह किसी से छिपा नहीं है। इतने सालों में उन्हें ध्यान नहीं रहा कि इस विभाग को आज तक औपचारिक रुप से उनका शौर्य यानी ध्वज नहीं दिया गया।"
- वहीं, इस दौरान राज्य मंत्री अनिल राजभर और डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार ने विभाग में तैनात रहे शहीदों की विधवाओं को सहायता राशि प्रदान की।

राज्य मंत्री अनिल राजभर ने परेड कमांडर शैलेंद्र प्रताप सिंह (जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण, इलाहाबाद) को ध्वज प्रदान किया। राज्य मंत्री अनिल राजभर ने परेड कमांडर शैलेंद्र प्रताप सिंह (जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण, इलाहाबाद) को ध्वज प्रदान किया।
राज्य मंत्री अनिल राजभर व डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार ने विभाग में तैनात रहे शहीदों की विधवाओं को सहायता राशि प्रदान की। राज्य मंत्री अनिल राजभर व डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार ने विभाग में तैनात रहे शहीदों की विधवाओं को सहायता राशि प्रदान की।
राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।
राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी में लगे एनडीआरएफ से लेकर तमाम स्टॉल का निरीक्षण किया। राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी में लगे एनडीआरएफ से लेकर तमाम स्टॉल का निरीक्षण किया।
X
6 दिसंबर 1962 में होमगार्ड विभाग की स्थापना हुई थी।6 दिसंबर 1962 में होमगार्ड विभाग की स्थापना हुई थी।
राज्य मंत्री अनिल राजभर ने परेड कमांडर शैलेंद्र प्रताप सिंह (जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण, इलाहाबाद) को ध्वज प्रदान किया।राज्य मंत्री अनिल राजभर ने परेड कमांडर शैलेंद्र प्रताप सिंह (जिला कमांडेंट, मंडलीय प्रशिक्षण, इलाहाबाद) को ध्वज प्रदान किया।
राज्य मंत्री अनिल राजभर व डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार ने विभाग में तैनात रहे शहीदों की विधवाओं को सहायता राशि प्रदान की।राज्य मंत्री अनिल राजभर व डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार ने विभाग में तैनात रहे शहीदों की विधवाओं को सहायता राशि प्रदान की।
राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।
राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी में लगे एनडीआरएफ से लेकर तमाम स्टॉल का निरीक्षण किया।राज्य मंत्री अनिल राजभर ने प्रदर्शनी में लगे एनडीआरएफ से लेकर तमाम स्टॉल का निरीक्षण किया।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..