Hindi News »Uttar Pradesh »Lucknow »News» IAS Officer Struggle Story

कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS

यूपी में 14 दिसंबर से 17 दिसंबर तक IAS वीक चल रहा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Dec 16, 2017, 12:56 PM IST

    • वर्तमान में सुरेंद्र सिंह कानपुर के डीएम हैं। मूल रूप से ये मथुरा जिले के रहने वाले हैं, इनके पिता हरी सिंह किसान थे।

      लखनऊ. यूपी में 14 दिसंबर से 17 दिसंबर तक IAS वीक चल रहा है। इसमें भाग लेने आए 2005 बैच के IAS और कानपुर के DM सुरेंद्र सिंह ने DainikBhaskar.com से बातचीत में अपनी लाइफ के स्ट्रगल को शेयर किया। इनके मां-बाप ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं। जीवन यापन के लिए रोज संघर्ष करते थे।

      पापा के लिए ये बने IAS अफसर

      - मथुरा जिले के सैदपुर गांव के रहने वाले सुरेन्द्र सिंह के पिता हरी सिंह किसान थे। खेती ही फैमिली की आय का मुख्य जरिया था।

      - सुरेंद्र कहते हैं, शुरुआती दौर में परेशानियां कुछ ज्यादा थीं। गांव के प्राथमिक स्कूल में मेरी शुरुआती पढ़ाई हुई। मैं रोज देखता था कि मुझे स्कूल जाते देख पैरेंट्स की आंखों में एक अजीब सी ललक रहती थी।

      - वो ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे, लेकिन मेरी पढ़ाई उनके लिए काफी मायने रखती थी। यह बात मैं बचपन से ही महसूस करने लगा था।

      - मेरे फैमिली की आय का मुख्य जरिया खेती ही था। मैं अक्सर स्कूल से आने के बाद खेतों में पहुंच जाता और पिता जी का काम में हाथ बंटाता। हालांकि, वो मुझे काम करने से मना कर देते थे, क्योंकि वो चाहते थे कि मेरा ध्यान कभी पढ़ाई से न भटके।

      - मैं 8वीं क्लास तक गांव के ही स्कूल में पढ़ा। उसी दौरान मेरे बड़े भाई जीतेंद्र को दिल्ली में प्राथमिक स्कूल में टीचर की जॉब मिल गई। मैं भी उनके साथ दिल्ली चला गया। वहां इंटर करने के बाद मैं BSC और MSC के लिए राजस्थान चला गया।

      - वहां मैंने Msc में टॉप किया, मुझे गोल्ड मेडल भी मिला। पढ़ाई के दौरान मैं कई गवर्मेंट जॉब के लिए एग्जाम देता रहता था। इस बीच मेरा सिलेक्शन एयरफोर्स में हो गया। वहां ज्वाइन करने से पहले ही मेरा सिलेक्शन ONGC में जियोलॉजिस्ट के पद पर हो गया।"

      - मैं ONGC में नौकरी तो करने लगा था, लेकिन दिल में हमेशा यही ख्याल आता कि शायद अभी पिता जी का सपना अधूरा है। मैंने 3 बार PCS का एग्जाम क्वालीफाई किया, लेकिन ज्वाइन नहीं किया। क्योंकि दिल में IAS बनने का ख्वाब था। साल 2005 में IAS क्वालीफाई किया, देश में 21वीं रैंक हासिल की।

      पत्नी का मिलता है साथ, तभी समाज के लिए कर पा रहा हूं बेहतर

      - करीब 10 साल पहले सुरेन्द्र सिंह की शादी मेरठ की गरिमा से हुई थी। इनकी 2 बेटियों हैं। सुरेन्द्र कहते हैं, डीएम के पद पर काफी सारी जिम्मेदारियां होती हैं, जिसमे कभी-कभी फैमिली और बच्चों के लिए भी टाइम निकालना मुश्किल हो जाता है।

      - लेकिन पत्नी का पूरा सहयोग रहता है, जिसकी वजह से मैं समाज के लिए बेहतर काम कर पा रहा हूं।

      - सुरेन्द्र छोटे से गांव से निकलकर भले ही IAS बन गए हों, लेकिन आज भी उन्हें मिट्टी के चूल्हे की बनी रोटियां सबसे ज्यादा पसंद है।

      - बता दें, इस IAS अफसर को साल 2012 के विधानसभा चुनाव में फिरोजाबाद में तैनाती के दौरान निर्वाचन आयोग द्वारा बेस्ट इलेक्शन प्रैक्टिस के अवार्ड से सम्मानित किया गया था। इसके आलावा मनरेगा योजना में बेहतरीन कार्यवहन के लिए इन्हें तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह द्वारा भी सम्मानित किया जा चुका है।

    • कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS
      +5और स्लाइड देखें
      इनके मां-बाप ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं। जीवन-यापन के लिए रोज संघर्ष करते थे।
    • कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS
      +5और स्लाइड देखें
      सुरेंद्र कहते हैं, शुरुआती दौर में परेशानियां कुछ ज्यादा थीं। गांव के प्राथमिक स्कूल में मेरी शुरुआती पढ़ाई हुई।
    • कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS
      +5और स्लाइड देखें
      सुरेंद्र कहते हैं, मैं रोज देखता था कि मुझे स्कूल जाते देख पैरेंट्स की आंखों में एक अजीब सी ललक रहती थी।
    • कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS
      +5और स्लाइड देखें
      सुरेंद्र की मां।
    • कभी मां-बाप 2 टाइम खाने के लिए रोज करते थे स्ट्रगल, बेटा ऐसे बना था IAS
      +5और स्लाइड देखें
      सुरेन्द्र सिंह के पिता हरी सिंह।
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Lucknow News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: IAS Officer Struggle Story
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    More From News

      Trending

      Live Hindi News

      0

      कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
      Allow पर क्लिक करें।

      ×