--Advertisement--

विक्टिम बोली- बहन को पीट रहे थे, मुझसे रेप पर रेप किए जा रहे थे

पुलिस ने गैंगरेप पीड़ित को 5 घंटे थाने में बैठाए रखा फिर भगा दिया।

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 02:14 PM IST
पीड़ित ने बताया कि लड़के उसकी बहन को पीट रहे थे और उसके साथ गैंगरेप कर रहे थे। पीड़ित ने बताया कि लड़के उसकी बहन को पीट रहे थे और उसके साथ गैंगरेप कर रहे थे।

शाहजहांपुर. यूपी पुलिस की लापरवाही का एक और मामला सामने आया है। यहां सिंधौली थाने की पुलिस पर आरोप है कि उसने गैंगरेप पीड़ित एक नाबालिग छात्रा को 5 घंटे थाने में बैठाए रखा, लेकिन कोई मुकदमा दर्ज नहीं किया। पीड़ित परिवार लगातार शिकायत लिखवाने के लिए फरियाद लगाता रहा, लेकिन पुलिसकर्मी अपनी ही धुन में मस्त रहे। पुलिसवालों ने पीड़ित परिवार को थाने से भगाया...

 

पीड़ित परिवार का आरोप है कि सोमवार को वारदात के बाद जब वो थाने गए तो वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने शिकायत दर्ज करने में काफी लापरवाही बरती। पहले तो तहरीर की कॉपी फाड़कर फेंक दी फिर उन्हें थाने से भगा दिया। इसके बाद मंगलवार को जब पीड़ित परिवार दोबारा थाने पहुंचा तो पुलिसकर्मियों ने तहरीर तो ले ली, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की और ना ही पीड़ित को मेडिकल के लिए भेजा।

 

ऐसे हरकत में आई पुलिस

वहीं, मामला मीडिया के सामने आते ही पुलिस हरकत में आ गई और आनन-फानन में पीड़िता की शिकायत दर्ज कर पुलिस मामले की जांच में जुट गई और पीड़ित छात्रा को बुधवार की सुबह मेडिकल के लिए भेजा। लेकिन पुलिस की इस कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े हो गए हैं।

 

पीड़िता ने सुनाई पूरी दास्तां

उधर, पीड़ित छात्रा ने अपने साथ हुए गैंगरेप की वारदात की पूरी दास्तां मीडिया को बताई कि कैसे गांव के ही लड़को ने उसको अपनी हवस का शिकार बनाया और कैसे पीड़ित परिवार लगातार इंसाफ के लिए थाने के चक्कर लगाता रहा।

 

'पीड़िता को मेडिकल के लिए भेजा है'

सिंधौली थाने के SSI एम ए खलील के मुताबिक- पीड़ित परिवार की शिकायत दर्ज कर ली गई है। पीड़ित छात्रा को मेडिकल के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद जरूरी कार्रवाई की जाएगी।